सिहोरा। नईदुनिया प्रतिनिधि

गरीबों को सहजता से राशन उपलब्ध कराने के लिए खोली गईं पीडीएस दुकानों पर अप्रत्यक्ष रूप से सेल्समैन का कब्जा है। सेल्समैन मनमर्जी से दुकान खोलते हैं और जब चाहते हैं बंद कर देते हैं। सिहोरा और मझौली नगर और ग्रामीण क्षेत्र में पीडीएस की दुकानों में ताले लटके रहते हैं। हालत ये हैं कि गरीब राशन के लिए राशन दुकानों में पहुंचते जरूर हैं, लेकिन वहां ताला मिलता है।

शासकीय उचित मूल्य दुकान गोसलपुर

गोसलपुर क्षेत्र की यह सबसे बड़ी राशन दुकान में करीब 17 सौ के लगभग राशन कार्डधारी हैं। दुकान में ताला लटका रहता है। जानकारी लेने पर पता चला कि करीब एक सप्ताह से राशन दुकान नहीं खुली। रक्षाबंधन त्योहार के बाद दुकानों पर गरीब राशन लेने पहुंच रहे थे, लेकिन दुकान बंद देख खाली हाथ दुकान संचालक को कोसते हुए लौट रहे थे। दुकान के बाहर न तो स्टॉक की जानकारी लिखी न तो मूल्य।

शासकीय उचित मूल्य दुकान जुझारी

राशन दुकान स्व सहायता भवन में संचालित हो रही है। मौके की स्थिति को देखकर ऐसा लग रहा था कि दुकान महीनों से नहीं खुली है। यहां भी करीब आठ सौ बीपीएल राशन कार्डधारी हैं। ग्रामीणों ने बताया कि दुकान खुलने का कोई समय निर्धारित नहीं है। राशन का स्टॉक कब आता है पता ही नहीं चलता। सेल्समैन मनमर्जी से काम करते हैं। शासन के स्पष्ट निर्देश हैं कि शनिवार-रविवार को छोड़कर बाकी दिन राशन दुकानों खुली रहेंगी।

शासकीय उचित मूल्य दुकान कछपुरा

पीडीएस दुकान पंचायत भवन में संचालित हो रही है। मौके पर राशन लेने कार्डधारी खड़े थे, लेकिन सेल्समैन का कोई पता नहीं था। राशन लेने आई संतोषी गोंटिया, रामकली डुमार, सुरेंद्र भूमिया ने बताया कि बीते दो दिनों से राशन दुकान आ रहे हैं, लेकिन यहां ताला लटका है। रोज-रोज राशन के लिए चक्कर लगा रहे हैं, जब राशन नहीं देना था तो शासन ने दुकानें क्यों खोलीं।

बॉक्स

दूरस्थ गांवों की दुकानों के यही हाल

कछपुरा सेवा सहकारी समिति के अंतर्गत बंधा, खजरी, बेला, सिलुआ, घुटना, पोंड़ी, अतरिया राशन दुकानों के यही हाल हैं। राशन दुकान संचालक और सेल्समैन की मनमानी पर अंकुश लगाने का काम खाद्य विभाग का है, लेकिन विभाग अपनी जिम्मेदारियों के प्रति भी गंभीर नहीं है। विभाग की ओर से इन राशन दुकानों का निरीक्षण तक नहीं किया गया।

इन्हें मिलता है पीडीएस का राशन

1.गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले

2.भवन संनिर्माण कर्मकार मंडल कार्डधारी

3.वृद्घावस्था, निराश्रित, विकलांग, विधवा पेंशनधारी

4.केंद्र सरकार के बीड़ी कामगार श्रमिक परिवारों को

वर्जन

सभी पीडीएस दुकानों में पदस्थ सेल्समैन और संचालकों को समय पर दुकान खोलने और कार्डधारियों को राशन वितरण के निर्देश दिए गए हैं। अगर ऐसा नहीं हो रहा है तो मामले की जांच की जाएगी।

सीएस जादौन, फूड कंट्रोलर जबलपुर