झूलेलाल मंदिर में चालीसा व्रत महोत्सव, 70 महिलाओं और 65 पुरुषों ने चालिस दिन का व्रत शुरू किया

फोटो ....

जबलपुर। नईदुनिया न्यूज

सिर पर भगवान झूललाल की बहराणा दीप, अक्षत, सिंदूर से सजी थालियां रखकर शुक्रवार को सैकड़ों सिंधी धर्मावलंबियों ने झूलेलाल मंदिर भरतीपुर में आस्था के महापर्व 'चालीसा व्रत' महोत्सव में हिस्सा लिया। यहां पारंपरिक पंजड़ा भक्ति गीतों पर झूमते-नाचते महिला-पुरुषों ने वृत आरंभ किया। विपत्ति निवारक जल देवता, वरुणदेव के अवतार भगवान झूलेलाल के चालीस मेले का शुभारंभ स्वामी अशोकानंद, पं. प्रदीप शर्मा, स्वामी आसनदास, बाबा त्रिलोकदास, विधायक आशोक रोहाणी ने किया। यहां 70 महिलाओं और 65 पुरुषों ने व्रत आरंभ किया। इन्होंने झुलेलाल मंदिर के गर्भगृह में स्थापित प्रतिमा के समक्ष दीपदान एवं चालीस दिनों तक व्रत रखने का संकल्प लिया। आयोजन के पहले दिन युवाओं ने चाचर नृत्य प्रस्तुत किया। इस अवसर पर आयोजित धर्मसभा को स्वामी अशोकानंद, पं. प्रदीप शर्मा, मोतीलाल पारवानी आदि ने संबोधित किया। मीडिया प्रभारी राजकुमार कांधारी ने बताया कि चालीसा व्रत महोत्सव का समापन 21 अगस्त को होगा। इस अवसर पर मटकी शोभायात्रा निकाली जाएगी। मंदिर में चालीस दिन तक प्रातः साढ़े 8 बजे से साढ़े 10 बजे एवं रात्रि में साढ़े 7 से 8 बजे तक मंदिर में विविध कार्यक्रम होंगे।

.....

सेन समाज की हरिनाम संर्कीतन यात्रा आज

जबलपुर। संस्कारधानी सेन समाज की हरिनाम संर्कीतन यात्रा शनिवार को शाम 5 बजे से एमआर-फोर, एकता चौक से निकाली जाएगी। समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं विश्व हिन्दू परिषद समन्वय मंच प्रमुख रमेश श्रीवास यात्रा का नेतृत्व करेंगे। समाज के केके उमरे, महेश सेन, चन्द्रप्रकाश उसरेठे, जीपी वैद्य आदि ने उपस्थिति का अनुरोध किया है।

....

108 दीपों से की भगवान परशुराम की महाआरती

जबलपुर। संपूर्ण ब्राह्मण मंच द्वारा ग्वारीघाट स्थित परशुरामधाम में भगवान परशुराम की महाआरती की गई। यहां मुख्य यजमान एमआईसी सदस्य कमलेश अग्रवाल ने कहा कि निरंतरता संगठन की पहचान होती है। महाआरती में भाजपा नेता अवतार सिंह मामा, प्रवीण शर्मा शामिल हुए। कन्या पूजन दीपक पचौरी, सुनीता पांडे, मीरा दुबे आदि ने किया।

....

हरिनाम जपने से भगवान और भक्त का मिलन

फोटो....

जबलपुर। विट्ठल वारी यात्रा समाज की आपसी दूरियों को मिटाते हुए वारी समाजिक कुरीतियों, वैमस्य का दमन करती है। भारतीय संस्कृति का रक्षण करने का कार्य बारी करती है। कलयुग में हरिनाम संर्कीतन से भक्त और भगवान का मिलन होता है। उक्ताशय के उद्गार आचार्य वासुदेव शास्त्री ने चेरीताल में विट्ठल महाआरती में व्यक्त किए। इस अवसर पर महापौर डॉ. स्वाति गोडबोले, वर्षा दांडेकर, विंध्येश भापकर, प्रदीप फाटक आदि शामिल थे।

........

जिल्काद का चांद आज नजर आने की उम्मीद

सिंगल फोटो ....

जबलपुर। मुफ्ती-ए-आजम मध्यप्रदेश हजरत मौलाना मोहम्मद हामिद अहमद सिद्दीकी के अनुसार 14 जुलाई मुताबिक उन्तीस शव्वाल को जिल्काद का चांद नजर आने की उम्मी है। लिहाजा शनिवार को शाम मगरिब बाद आसमान पर चांद देखने की कोशिश करें।