भोपाल। मध्यप्रदेश में चुनाव के दौरान आयकर विभाग को करीब 20 करोड़ रुपए की नकदी सहित कीमती आभूषण मिले हैं। आचार संहिता के बाद छह करोड़ 25 लाख रुपए जब्त हुए। 3 करोड़ रुपए नकदी का मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है। इंदौर में बरामद हुए 86 लाख और 15 लाख रुपए नकदी को भी जब्त किया गया है।

आयकर विभाग ने यह कार्रवाई चुनाव के दौरान प्रदेश में कालेधन की आवाजाही रोकने के लिए शुरू की गई मुहिम के तहत की। 28 जनवरी को चुनाव आयोग के साथ पहली बैठक के बाद आयकर ने सभी जिलों में विशेष टीम गठित की थीं। इसके बाद 10 अप्रैल को चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद ऐसी कार्रवाइयां तेज कर दी गईं। आयकर भवन में बनाए गए कंट्रोल रूम से प्रदेश के सभी जिलों की टीमों का समन्वय बनाया गया।

विभागीय सूत्रों का दावा है कि आचार संहिता के बाद विभिन्न स्थानों पर कालेधन की आशंका में जो राशि विभाग के हत्थे चढ़ी उसके संबंध में कई जगह छापामारी और सर्वे की कार्रवाई भी की गई। छानबीन के बाद संबंधित लोगों से अघोषित संपत्ति पर टैक्स वसूली भी की गई।

आयकर विभाग द्वारा पकड़ी गई करोड़ों रुपए की अघोषित नकदी में तीन करोड़ रुपए की राशि के संदर्भ में अभी कोर्ट का फैसला आना बाकी है। इस राशि को लेकर छानबीन का सिलसिला जारी है। कुछ दिन पूर्व इंदौर में पकड़े गए 86 एवं 15 लाख रुपए की नकदी के मामले में जांच के बाद आयकर की टीम ने संबंधित पार्टी के यहां छापे की कार्रवाई की है, मामले में पूछताछ भी चल रही है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि प्रदेश में आचार संहिता लागू रहने तक सभी जिलों में अधिकारियों की टीमें इस मुहिम पर तैनात हैं।

91 करोड़ की नकदी, शराब, ड्रग की जब्ती, पिछले चुनाव में 14 करोड़ पहुंचा था आंकड़ा

लोकसभा चुनाव में अवैध गतिविधियों पर सख्ती से अंकुश लगाने की मंशा का असर साफ दिखाई देने लगा। चौथे चरण का प्रचार थमने तक 91 करोड़ रुपए से ज्यादा की अवैध शराब, नकदी, ड्रग और अन्य सामग्रियों की जब्ती की गई। 2014 के लोकसभा चुनाव में यह आंकड़ा 14 करोड़ रुपए का था। वहीं, छह माह पहले विधानसभा चुनाव में 71 करोड़ रुपए की नकदी, शराब, ड्रग और अन्य सामग्रियां जब्त की गई थी।

लोकसभा चुनाव में 11 मार्च से अब तक 91 करोड़ 29 लाख 14 हजार 628 रुपए की अवैध नकदी, शराब, ड्रग्स सहित अन्य सामग्री जब्त की गई है। विधानसभा चुनाव में गतिविधियों की कार्रवाई पर 71 करोड़ रुपए अवैध सामग्री जब्त हुई थी। 2014 में यह आंकड़ा 14 करोड़ रुपए का था। अवैध नकदी की जब्ती को देखा जाए तो इस बार अभी 30 करोड़ 52 लाख 17 हजार 944 रुपए जब्त किए गए हैं।

2014 में यह राशि दो करोड़ नौ लाख 15 हजार 39 रुपए थी। इसी तरह अवैध सोना व चांदी के आभूषण को देखें तो लोकसभा चुनाव के दौरान आठ करोड़ 63 लाख 96 हजार 972 रुपए की सामग्री जब्त हुई। नकदी से ज्यादा अवैध शराब पकड़ी गई। इस बार 31 करोड़ 27 लाख 78 हजार 318 अवैध शराब जब्त हुई तो 2014 में आठ करोड़ 34 लाख 54 हजार 769 जब्त की गई। ड्रग्स 10 करोड़ 11 लाख और अन्य सामग्री 10 करोड़ 73 लाख रुपए की जब्त की गई।

35 हजार छापे मारे, 26 हजार एफआईआर

अवैध शराब के खिलाफ आचार संहिता के दौरान आबकारी और पुलिस बल ने 35 हजार से ज्यादा छापे मारे। 26 हजार 404 एफआईआर दर्ज कराई गई तो 13 हजार 258 लोगों को गिरफ्तार किया गया। 132 वाहन जब्त हुए।