शहर के प्रवेश द्वार पर सुंदर वाटिका

बनाने की शुरुआत, पौधे भी रोपे

झाबुआ। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिला मुख्यालय के प्रवेश द्वार यानी मेघनगर नाके पर सुंदर वाटिका बनाने की शुुरुआत मकर संक्रांति पर्व पर की गई है। पर्यावरणप्रेमियों ने रविवार को एकत्रित होकर पौधारोपण किया। मुख्य रूप से यहां 10 तरह के पौधे लगाए जा रहे हैं। उद्देश्य पर्यावरण के संरक्षण के साथ शहर का सौन्दर्यीकरण है।

इस पावन उद्देश्य को लेकर रविवार को कई संस्कृतिप्रेमी आगे आए। सुबह 10 बजे सभी पर्यावरणप्रेमी शहर के प्रवेश द्वार मेघनगर नाके पर एकत्रित हो गए। इस क्षेत्र में दुकान लगा रहे सभी व्यापारियों की भी यही मंशा है कि जिला मुख्यालय झाबुआ में प्रवेश करते ही हर व्यक्ति को सुंदर वाटिका देखकर सुखद अहसास हो। इस लक्ष्य को लेकर सभी पर्यावरणप्रेमी एकजुट हो गए और रविवार को मकर संक्रांति पर्व पर इस शुभ काम की शुरुआत कर दी गई।

ये पौधे लगेंगे

इस वाटिका में 10 तरह के पौधे लगाए जा रहे हैं, जो अपनी-अपनी महक से इस वाटिका का आकर्षक बनाएंगे। अमलतास, वट, पीपल, नीम, गुडहल, चांदनी, गुलर, मोगरा, बोगनवेलिया, केशर साइमन आदि पौधे रहेंगे। रविवार को यही पौधे लगाए गए। साथ ही पौधों के संवर्धन व संरक्षण का संकल्प लिया गया। नगर पालिका व प्रशासन का भी सहयोग वाटिका को विकसित करने में लिया जाएगा।

प्रवेश करते ही नजर आएगी

इस वाटिका का स्थल चयन शहर के सौन्दर्य को ध्यान में रखकर पर्यावरणप्रेमियों ने किया है। मेघनगर नाके से ही शहर की शुरुआत होती है। रविवार सुबह 10 बजे मेघनगर नाका मित्र मंडल के सदस्य व पर्यावरणप्रेमी पौधारोपण करने लगे थे। यह सिलसिला 12 बजे तक चलता रहा। इस दौरान राजकुमार देवल, देवेंद्र पंचाल, अविनाश डोडियार, अनिल कटकानी, ओम शर्मा, डॉ. केके त्रिवेदी, राजवीर कुशवाह सहित कई पर्यावरणप्रेमी उपस्थित थे।