Naidunia
    Sunday, January 21, 2018
    PreviousNext

    थांदला के युवा की पुस्तक का दिल्ली में विमोचन

    Published: Sun, 14 Jan 2018 06:51 PM (IST) | Updated: Sun, 14 Jan 2018 06:51 PM (IST)
    By: Editorial Team

    थांदला के युवा की पुस्तक का दिल्ली में विमोचन

    थांदला। युवा साहित्यकार डॉ. किंशुक कांकरिया शिव का साझा संकलन 'सात समंद की मसि करौ' का विमोचन नई दिल्ली में चल रहे विश्व पुस्तक मेले में हुआ। वरिष्ठ साहित्यकार ध्रुव गुप्त और रामजी तिवारी आयोजन में मौजूद थे। विश्व पुस्तक मेला दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहा है। किंशुक ने बताया, मेले में 7 युवा साहित्यकारों के साथ उनकी चयनित कविताओं का प्रकाशन किया गया है। उन्होंने बताया, पुस्तक लिखने का इरादा नहीं था, लेकिन मेरी रचनाएं जब सोशल मीडिया पर आई तब युवा साहित्यकारों को प्रोत्साहित करने का कार्य कर रहे प्रशांत बिपलवी ने इन रचनाओं को लेकर पुस्तक प्रकाशन की योजना बनाई। जिसका संपादन अरुणश्री द्वारा किया गया।

    जोड़....

    गांवों में अलग तरह की संक्रांति

    करड़ावद। नईदुनिया न्यूज

    आमतौर पर संक्रांति को पतंगबाजी का त्योहार माना जाता है, लेकिन अंचल के गांवों में आज भी कई पुरानी परंपराएं कायम हैं। यहां इस पर्व पर पतंग के साथ ही गिल्ली-डंडे खेलने का जोर दिखता है। इसके अलावा मंदिरों और घरों में भजन-कीर्तन के आयोजन किए जाते हैं। यहां रविवार को काफी आस्था के साथ पर्व मनाया गया। कई श्रृद्धालु माही नदी पहुंचे और स्नान कर दान-पुण्य किया। पतंग उड़ाने के शौकीन भी छतों पर सुबह से डटे दिखाई दिए। गांव के हीरालाल भगत के यहां सुंदरकांड का आयोजन किया गया। इस अवसर पर दुलाखेड़ी के संत फलाहारी देवदास, मनिदास, मोहन, मनोहरदास आदि सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

    14जेएचए 16 करड़ावद में संक्रांति पर भजन-कीर्तन का आयोजन किया गया।

    और जानें :  # jhabua news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें