करेली। नईदुनिया न्यूज

नगर के बहुतायात क्षेत्रों में नपा द्वारा अनेक निर्माण कार्य कराये जा रहे हैं, उनमें से कुछ पूर्णता की ओर हैं। नपा द्वारा इन निर्माण कार्यों पर कोताही बरती जा रही है, यह निर्माण कार्य इस गुणवत्ता से किए जा रहे हैं यह पता लगाना भी नपा के नुमाइंदे जरूरी नहीं समझ रहे हैं। नपा में बैठे जनता से चुने नुमाइंदे निर्माण कार्य अपनों को तो दिला देते हैं पर इनका निरीक्षण करने से परहेज करते हैं। यदा कदा ही नपा के सब इंजीनियर इन निर्माण कार्यों का निरीक्षण करते देखे जाते हैं।

मुरम का नहीं किया उपयोग

नगर के सुभाष वार्ड में साईं मंदिर से हरईमाता तक नवनिर्मित सड़क के साइड सोल्डर में भरने के लिए ठेकेदार द्वारा पीली मिट्टी का उपयोग किया गया है। यह मिट्टी सड़क के ऊपर तक डाली गई है, जबकि नियमानुसार साइड सोल्डर के भरने के मुरम का उपयोग किया जाता है, परंतु ऐसा यहां नहीं किया गया है, मिट्टी के साइड सोल्डर से कभी भी सड़क सुरक्षित नहीं रह सकती है। इसलिए ठेकेदार को पीली मिट्टी के जगह मुरम का उपयोग करना चाहिए।

क्षतिग्रस्त होने लगी सड़क

यह सड़क नागरिकों की मांग के बाद कई वर्षों बाद बनी हुई है। जिसके निर्माण में ठेकेदार द्वारा की गई लापरवाही सड़क की गुणवत्ता पर असर डाल रही है। ठेकेदार द्वारा साइड सोल्डर में पीली का उपयोग किए जाने से सड़क अभी से क्षतिग्रस्त होने लगी है। यदि समय रहते सड़क पर ध्यान नहीं दिया गया, तो वर्षों के इंतजार के बाद बनी सड़क कुछ दिनों में ही खराब हो जाएगी।

नागरिकों को हो रही परेशानी

सड़क के साइड सोल्डरों को भरने में उपयोग पीली मिट्टी सड़क पर भी फैल रही है। यहां के रहवासियों में आदित्य, हेमंत, विनोद, अक्षत का कहना है कि साइड सोल्डर की पीली मिट्टी सड़क पर फैल रही है और वाहनों के आवागमन करने पर धूल के गुबार उठते हैं। जिससे नागरिकों और रहवासियों को परेशानी होती है। नगरपालिका में इस ओर ध्यान देते हुए सड़क की सफाई कराना चाहिए, जिससे नागरिकों को होने वाली परेशानी से निजात मिल सके।

नाली में लग रहा कम लोहा

नगरपालिका द्वारा निरंजन चौक से विद्यासागर गेट तक 78 हजार की लागत से 42 मीटर नाली निर्माण कराया जा रहा है। परंतु इस नाली में लगाए जाने वाले लोहे पर सवाल उठ रहा है कि यह इतना दूर-दूर क्यों लगाया गया है। निर्माण स्थल पर मौजूद सब इंजीनियर से इस संबंध में बात की तो उन्होंने बताया कि लघु कार्य के तहत यह कार्य किया जा रहा है, और इसमें इसी तरह लोहा लगता है, और पूरा काम स्टीमेट के अनुसार ही किया जा रहा है।

नेता प्रतिपक्ष ने उठाए सवाल

मौके पर मौजूद नेता प्रतिपक्ष संदीप यादव ने नाली निर्माण को देखकर कहा कि इस नाली निर्माण के दौरान लोहा कम लगाया जा रहा है। जिससे इसकी गुणवत्ता प्रभावित होगी और भविष्य में इस निर्माण के क्षतिग्रस्त होने की संभावना बनी हुई है।

खुदाई के दौरान टूटे नल

इस नाली की खुदाई के दौरान निर्माण स्थल पर लगे दो नल टूट गए थे, जिसके कारण आसपास के दुकानदारों को परेशानी हुई थी, क्योंकि नल टूट जाने पर पानी सप्लाई चालू होने पर दुकान के सामने पानी भर जाता था। नलों के टूट जाने की शिकायत दुकानदारों द्वारा नपा में की गई, और नपा द्वारा इन नलों का सुधार कार्य किया गया।

.........

हर्रई माता सड़क के साइड सोल्डर का कार्य अभी पूरा नहीं हुआ है। सुरक्षा की दृष्टि से मिट्टी डलवाई गई थी, ठेकेदार से बोलकर साडइ सोल्डर का कार्य जल्द पूर्ण कराया जाएगा। सड़क पर फैली मिट्टी की सफाई शीघ्र करवाई जाएगी। नाली का निर्माण स्टीमेट के अनुसार ही किया जा रहा है। यह लघु कार्य के तहत बनाई जा रही है और कहीं लोहे को घना होना तो जरूरत के अनुसार वह भी किया जाएगा।

-पंकज ध्रुर्वे, सब इंजीनियर नपा करेली

आध्यात्मिक सम्मेलन 23 मार्च से

17फोटो6 करेली। प्रेसवार्ता में जानकारी देती हुई सरोज बहन।

करेली। नईदुनिया न्यूज

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय प्रभु उपहार केंद्र करेली में ब्रह्माकुमारी सरोज बहन ने पत्रकारों को आगामी 23 मार्च से आयोजित 6 दिवसीय आध्यात्मिक सम्मेलन की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नगर में 6 दिवसीय आध्यात्मिक सम्मेलन 23 से 28 मार्च तक पुरानी गल्ला मंडी करेली में आयोजित है। कार्यक्रम में रामायण सीरियल की मंदोदरी किरदार विभूति एवं अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त तनाव प्रबंधन एवं राजयोग विषेषज्ञा ब्रह्माकुमारी डॉ. प्रभा मिश्रा का भी सानिध्य प्राप्त होगा। संस्था की जानकारी देते हुए सरोज बहन ने बताया कि संस्था आज संयुक्त राष्ट्र संघ का गैर सरकारी संगठन है। समाज के हर वर्ग का उत्थान हमारा धेय है। जिले में 25 वर्षों से संस्थान कार्यरत है। यहां 9 शाखाएं व 80 ग्रामीण पाठशाला चल रही हैं।

नाली में फंसी गाय को निकाला

17फोटो7 करेली। नाली में फंसी गाय

करेली। नईदुनिया न्यूज

नगर के सुभाष वार्ड स्थित साईं मंदिर के पास एक संकरी नाली में दुर्घटनावश एक गाय फंस गई। जिसे निकलने में परेशानी हो रही थी, इसकी खबर लगते ही पीपुल्स फार एनीमल्स अध्यक्ष भागीरथ संस्था कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे और करीब एक घंटे की मेहनत के बाद उसे सुरक्षित बाहर निकाला। इस दौरान अधिवक्ता बीएस राजपूत, संजीव खजांची, प्रमोद नेमा, राजेश दुबे का सहयोग रहा।

शाहपुर में खराब तारों से हो रही बिजली सप्लाई

करेली। नईदुनिया न्यूज

समीपस्थ ग्राम शाहपुर में क्षतिग्रस्त तारों से विद्युत सप्लाई के ग्रामीणों की परेशानी का कारण बने हुए हैं। यहां के विद्युत तार अधिकांश क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। ग्राम के निवासियों द्वारा इस संबंध में बिजली कंपनी को अवगत कराते हुए सुधार की मांग की है। ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम से विद्युत सप्लाई घनी आबादी और घरों के ऊपर से होकर गुजरती है। प्रत्येक माह में 2 से 3 बार विद्युत तार टूटने की घटनाएं आम बात हो चुकी है। जिन्हें आनन-फानन में ग्रामीणों की मदद से दुरूस्त कराया जाता है। ऐसी स्थिति में जान माल की बड़ी घटना होने की आशंका बनी रहती है। ग्रामीणों का कहना है कि कई घरों में कनेक्शन के लिए दो से तीन केबल लगाई जाती है। जिनके तार कटे-फटे नीचे ही लटक रहे हैं, जिससे शॉर्ट होने का खतरा बना रहता है। एक खंबे में लगभग 20 कनेक्शन होने से वोल्टेज की भी कमी आती है। कभी वोल्टेज बढ़ जाता है, तो इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जल जाते हैं। बिजली की चोरी की जाती है। जिससे वोल्टेज में कम बढ़ होता है। ऐसी स्थिति मे कोई अप्रिय घटना घटित हो सकती है।

रेलवे स्टेशन के पास नाले की नहीं हो रही सफाई

करेली। नईदुनिया न्यूज

स्थानीय रेलवे स्टेशन परिसर के निर्माणाधीन नाले की समुचित सफाई के अभाव में गंदगी का आलम पसरा हुआ है। इसके कारण यहां के निवासियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में रेलवे प्रबंधन का ध्यान आकर्षित कराते हुए सफाई की अपेक्षा की जा रही है। गौरतलब है कि यहां निस्तार पानी निकासी के लिए चार साल पूर्व नाला निर्माण शुरू किया गया था, लेकिन इस का कार्य बीच में बंद होकर रह गया है। जिसके कारण इस अधबने नाले में जहां तहां कचरा और गंदगी भरी पड़ी है। यहां के लोगों का कहना है कि समुचित सफाई के अभाव में यहां गर्मियों के दिनों में मच्छरों की संख्या काफी बढ़ जाती है। इससे बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। नागरिकों ने प्रशासन से इसकी सफाई की मांग की है।

धमनी नदी पर स्टापडैम बनाने की मांग

करेली। नईदुनिया न्यूज

जनपद पंचायत करेली के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत खैरी महलपुरा के गांव रेवानगर के किनारे से होकर बहने वाली धमनी नदी पर यहां के ग्रामवासियों द्वारा जल संरक्षण के लिए स्टाप डैम बनाए जाने की मांग की जा रही है। गौरतलब है कि इन दिनों भीषण गर्मी और गिर रहे भूजल स्तर के बीच क्षेत्र में पानी की उपलब्धता कम होती जा रही है। वहीं गर्मी के दिनों में सिर्फ हैंडपंप पर गुजारा करने वाले यहां के रहवासियों और उनके मवेशियों के लिए इस गांव में पानी की समस्या भी बनी हुई है। ग्रामवासियों का कहना है कि यदि उनके गांव में इस नदी पर स्टाप डैम बन जाता है तो यहां बरसात के दिनों का पानी एकत्रित होने लगेगा और गर्मियों में आने वाली इस समस्या से छुटकारा मिल जाएगा तथा क्षेत्र के जलस्तर में आ रही गिरावट भी कम हो जाएगी। ग्रामीणों का कहना है कि जल संरक्षण के लिए उपाय किए जाने के लिए यह उपयुक्त मौसम है। वर्तमान मौसम में यहां स्टाप डैम और नदी का गहरीकरण जैसे कार्य आसानी से कराए जा सकते हैं। यहां जल संरक्षण के लिए गंभीर प्रयास अभी से आरंभ किए जाना चाहिए, ताकि यह प्राकृतिक जलस्रोत अनुपयोगी होकर नष्ट होने से बच सकें। यदि इस पर अभी ध्यान नहीं दिया गया तो वह दिन दूर नहीं जब इसका अस्तित्व ही खत्म हो जाएगा। रेवानगर में धमनी नदी पर स्टापडैम को लेकर ग्राम के जागरूक नागरिकों का कहना है कि यहां गत वर्ष ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के तहत आयोजित ग्रामसभा में प्रस्ताव तो दिया गया है, अब यह योजना जल्दी ही मूर्तरूप में आ जाए तो यहां तेजी से गिर रहे जलस्तर में कुछ रुकावट आ जाएगी और इससे क्षेत्र वासियों को थोड़ी राहत मिल सकेगी। परंतु दो वर्ष का समय बीत जाने के बाद भी अभी तक जल संरक्षण के लिए कोई सार्थक पहल होती नजर नहीं आ रही है।

हमें तीर्थंकर प्रभु जैसा बनना है

मुनि योगसागर महाराज का ससंघ आगमन

17फोटो13 करेली। प्रवचन देते हुए महाराजश्री।

करेली। नईदुनिया न्यूज

हमारे आराध्य तीर्थंकर प्रभु है, हमें उन तक पहुंचना ही नहीं बल्कि उनके जैसे बनना है। मुनि का अर्थ मौन रहकर साधना करने वाला एवं बोलने का अधिकार आचार्य श्री को होता है। तीर्थंकर भगवान दीक्षा लेकर मौन हो जाते हैं तप करने के बाद ही बोलते है, सोर संसार में आगामी दिनों में होली मनाई जाएगी। पर यहां दीपावली होगी, उक्त उद्गार दिगंबर जैन मंदिर में पूज्य सागर महाराज ने प्रवचन माला में कहीं। रविवार सुबह आचार्यश्री108 विद्यासागर महामुनि राज के गृहस्थ जीवन के छोटे भाई योगसागर महाराज का ससंघ नगर आगमन हुआ। दिगंबर जैन समाज ने बस स्टैंड पहुंचकर गाजे-बाजे के साथ भव्य अगवानी की। मुनि श्री के पावन आगमन पर जहां जैन समाज सहित नगरवासी आनंदित रहे, योग सागर महाराज की आहारचर्या का श्रेय कैलाश चंद सगौरिया वालों को प्राप्त हुआ।

जो अपने चाहो वही दूसरों के लिए

जो-जो हमारे अनिष्ठ कार्य है, वह दूसरों के लिए भी सोचे, यहीं धर्म है। हमारे परिणाम ही हमारे लिए बाधक है। पर को जानना मेरा स्वभाव है जबकि हमे स्वयं खुद को जानना चाहिए। भाव को किसी तक पहुंचाने के साधन है, शब्द वास्तविक ज्ञान को पाने के लिए व्यवहारिक ज्ञान किया जाता है। श्रावक भी अपना एक लक्ष्य बनाए, गृहस्थ जीवन में रहकर भी प्राणी अपना कल्याण कर सकता है। प्रवचन के पूर्व मंगलाचरण सेजल सिंघई द्वारा किया गया एवं आचार्य विद्यासागर के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलन गाडरवारा, नरसिंहपुर, तेंदूखेड़ा से आए सामाजिक लोगों ने किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में जैन समाज के लोग उपस्थित रहे। संचालन मुकेश सिंघई ने किया।