खंडवा। गौ हत्या के मामले में दो भाई और एक साथी पर पुलिस ने रासुका की कार्रवाई की है। वर्ष 2017 से आरोपित गौ हत्या के मामलों में लिप्त हैं। मोघट थाने में तीनों पर गौ हत्या के तीन से अधिक केस दर्ज हैं। तीनों को जेल भेज दिया गया।

इस कार्रवाई के बाद अवैध रूप से मवेशियों के मांस का व्यवसाय करने वालों में हड़कंप मचा हुआ है। स्लाटर हाउस में पुलिस की इस कार्रवाई का असर साफ तौर पर नजर आ रहा है। यहां 15 से अधिक संख्या में लगने वाली मांस की दुकानें अब पांच-छह तक पहुंच गई है। पुलिस कार्रवाई के डर से अवैध रूप से मांस व्यवसायी दुकान खोलने से बच रहे हैं।

यह था मामला

31 जनवरी को पुलिस ने स्लाटर हाउस में दबिश दी थी, लेकिन उसके हाथ कुछ नहीं लगा। इसके बाद पुलिस अधिकारी स्लाटर हाउस पर नजर रखे हुए थे। इस बीच पुलिस को सूचना मिली कि स्लाटर हाउस के कुछ व्यवसायी शहर से बाहर गांव में सुनसान इलाकों में गौवध कर मांस खंडवा लाकर बेचते हैं। स्लाटर हाउस में गौ मांस लाया जाता है। पुलिस ने शहर से लगे ग्रामीण क्षेत्रों में भी नजर रखी।

एक फरवरी को पुलिस को ग्राम खरकली में स्कूल के पास नाले में गौ वध के बारे में सूचना मिली। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने गांव पहुंचकर दबिश दी तो गौवंश वध करते हुए तीन आरोपित दिखाई दिए। पुलिस को देख तीनों वहां से भाग गए थे। वहां मिली अधमरी बछिया का इलाज कराया गया। मौके से कुछ गौमांस भी जब्त किया। गौ हत्या का केस दर्ज करने के बाद पुलिस तीनों आरोपितों की तलाश कर रही थी।

तीन फरवरी को पुलिस ने आरोपित दोनों भाई नदीम उर्फ राजू पिता नत्थू और शकील निवासी परदेशीपुरा को गिरफ्तार कर लिया। तीसरे आरोपित आजम पिता सलीम निवासी खरकली को चार फरवरी को पकड़ा गया। इसके बाद तीनों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगाया गया और कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। इन्हें दूसरी जेल में शिफ्ट किया जा सकता है।

आरोपित नदीम उर्फ राजू, शकील पर मोघट थाने में गौवध प्रतिशेध अधिनियम में केस दर्ज है। वर्ष 2017 में केस दर्ज होने के बाद भी आरोपित अपनी हरकतों से बाज नहीं आए। 2018 में मोघट पुलिस ने फिर दोनों से गौमांस जब्त कर केस दर्ज किया था। तीसरा प्रकरण एक फरवरी 2019 को दर्ज किया गया। आरोपित नदीम पर तीन से अधिक गौवध अधिनियम और पशु क्रूरता अधिनियम केस दर्ज हैं। आजम पर भी मोघट थाने में केस दर्ज है।

भेजा जेल

तीनों आरोपितों को रासुका लगाकर जेल भेज दिया गया। गौवध मामलों को लेकर आरोपितों पर कार्रवाई की गई है। इस तरह के मामलों पर नजर रखी जा रही है। - प्रशांत मुकादम, नगर पुलिस अधीक्षक