खंडवा, नईदुनिया प्रतिनिधि। रेलवे ट्रैक के तिहरीकरण के लिए रविवार को जलगांव-भुसावल रूट पर मेगा ब्लॉक लिया गया। इसके चलते 10 से अधिक ट्रेनें देरी से चलीं, वहीं दो ट्रेनों का रूट डायवर्ट कि या गया। इससे यात्री परेशान हुए। प्लेटफॉर्म पर ट्रेनों का इंतजार करने के दौरान वे बार-बार जानकारी लेते नजर आए। पांच घंटे देरी से खंडवा आई काशी एक्सप्रेस से पुणे, भुसावल, जलगांव की ओर जाने वाले यात्रियों को खंडवा में ही उतार लिया गया। इससे कई यात्री असमंजस में पड़ गए। रेलवे अधिकारियों ने इन्हें समझाइश दी और इन यात्रियों को बाद में वाराणसी-मैसूर ट्रेन से भुसावल की ओर भेजा गया।

जलगांव-भुसावल रूट पर मेगा ब्लॉक से दिल्ली-मुंबई ट्रैक का परिवहन प्रभावित हुआ। ट्रेनों के विलंब से चलने के कारण यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर ट्रेनों का इंतजार करना पड़ा। दोपहर करीब डेढ़ बजे पांच घंटे देरी से काशी एक्सप्रेस खंडवा रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर पहुंची तो यहां रेलवे अधिकारियों का जमावड़ा नजर आया। वाणिज्य निरीक्षक आरएन शमर, मुख्य टिकट निरीक्षक जेपी मिश्रा और आरपीएफ निरीक्षक आरके गुर्जर सहित अन्य ने पुणे और भुसावल की ओर जा रहे यात्रियों को ट्रेन से उतारा, क्योंकि इस ट्रेन का रूट अकोला, पुणे, मनमाड़ की ओर डायवर्ट कर दिया गया था।

इससे कई यात्री असमंजस में रहे और रेलवे अधिकारियों से जानकारी लेने लगे। इसके बाद दोपहर 1.50 बजे खंडवा आई वाराणसी-मैसूर ट्रेन से उन्हें रवाना कि या गया। इसमें से पुणे जाने वाले यात्रियों को समझाइश दी गई कि वे भुसावल स्टेशन पर उतरकर महाराष्ट्र एक्सप्रेस के एस-2 कोच में सवार हो जाएं। इसी तरह 22129 एलटीटी-इलाहबाद एक्सप्रेस का भी रूट डायवर्ट कि या गया। डायवर्ट की गई ट्रेनें अकोला से होते हुए मनमाड़ पहुंचीं। ऐसे में इन ट्रेनों में यात्री जलगांव, भुसावल, पचौरा और चालीसगांव की यात्रा नहीं कर सके ।

ये ट्रेनें आईं देरी से

इटारसी की ओर जाने वाली 22129 लोकमान्य तिलक-इलाहबाद तुलसी एक्सप्रेस 4 घंटे और 15017 एलटीटी-गोरखपुर काशी एक्सप्रेस 3 घंटे देरी से खंडवा आईं। इसी तरह भुसावल की ओर जाने वाली 11072 बनारस-एलटीटी कामायनी एक्सप्रेस 3 घंटे, 11062 दरभंगा-एलटीटी पवन एक्सप्रेस 2 घंटे, 11016 कु शीनगर एक्सप्रेस 1.30 घंटे सहित 11058 अमृतसर-मुंबई पठानकोट एक्सप्रेस, 12150 दानापुर-पुणे सुपरफास्ट, 12486 श्रीगंगानगर-नांदेड़ और 11038 गोरखपुर-पुणे 30 मिनट से 1 घंटे देरी से खंडवा रेलवे स्टेशन पर पहुंची।

तिहरे ट्रैक के साथ यार्ड रिमोडलिंग का कार्य

भुसावल-जलगांव ट्रैक पर तिहरी लाइन के साथ भादली स्टेशन के यार्ड रिमोडलिंग का कार्य कि या गया। विदित हो कि रेलवे द्वारा दिल्ली-मुंबई रूट का तिहरीकरण कि या जा रहा है। इसमें इटारसी से भुसावल के बीच सवे की प्रक्रिया चल रही है। भुसावल से जलगांव को ट्रैक को प्राथमिकता से पूरा कि या जा रहा है। इस रूट से मुंबई, खंडवा, अहमदाबाद और अकोला के मार्ग जुड़ते हैं। इसके चलते रेलवे इस ट्रैक को पहले पूरा करना चाहता है।

अचानक चल दी ट्रेन, यात्री दौड़कर हुए सवार

रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर सुबह भुसावल की ओर रवाना हो रही पुष्पक एक्सप्रेस अचानक तेज गति से आगे बढ़ गई। ट्रेनों को आगे बढ़ता देख खाद्य सामग्री और पानी लेने उतरे यात्री घबरा गए और ट्रेन की ओर दौड़े। यात्रियों ने दौड़ लगाकर ट्रेन पकड़ी। इस दौरान कई यात्रियों के हाथ में रखी खाद्य सामग्री और पानी की बोतल भी नीचे गिर गई। इसके बाद ट्रेन की गति धीमी हुई तो यात्री इसमें सवार हो सके । विदित हो कि रेलवे स्टेशन पर कई बार ट्रेन के आने, प्लेटफॉर्म पर खड़े रहने ओर रवाना होने का एनाउंसमेंट ही नहीं होता है। ऐसे में कई बार तो स्टेशन के प्रतिक्षालय में ट्रेन का इंतजार कर रहे यात्रियों को ही इसकी जानकारी नहीं मिलती। प्लेटफॉर्म पर खड़ी ट्रेन के अचानक तेज गति से रवाना हो जाने के कारण यात्रियों को इसमें सवार होने के लिए दौड़ लगाना पड़ती है।