सुमित अवस्थी, खंडवा। सरकारी स्कूल के विद्यार्थी अब यू ट्यूब से गणित सीखेंगे। कहानियां पढ़ेंगे और कविता सुनेंगे। मनोरंजक ढंग से शिक्षा देने की यह पहल जिला शिक्षा केंद्र और डाइट ने की है। जिला स्तर पर तैयार प्राथमिक शिक्षा की विषय वस्तुओं को यू ट्यूब पर लोड किया जा रहा है।

सबसे पहले गणित के साथ कोरकू-निमाड़ी और सामान्य ज्ञान के वीडियो अपलोड किए गए हैं। 30 मार्च तक 100 वीडियो लोड करने का लक्ष्य रखा गया है। एक अप्रैल से शुरू होने वाले शिक्षा सत्र में 1190 सरकारी स्कूलों में इस तकनीक का नवाचार किया जाएगा। इसके साथ ही विद्यार्थी अपने घर पर माता-पिता के स्मार्ट फोन में भी यह वीडियो देख सकेंगे।

जिला शिक्षा प्रशिक्षण केंद्र द्वारा प्रारंभिक शिक्षा की विषय वस्तु के अलग-अलग वीडियो तैयार किए जा रहे हैं। वैसे तो यू ट्यूब पर शिक्षा से संबंधित कई वीडियो उपलब्ध होते हैं लेकिन खंडवा में शिक्षा विभाग द्वारा तैयार इन वीडियो की खास बात यह है कि निमाड़ी और कोरकू में भी इन्हें बनाया गया है। इससे आदिवासी और निमाड़ी क्षेत्रों के विद्यार्थी भी अपनी बोलियों में शिक्षा हासिल कर सकें। इसमें सामान्य ज्ञान और गणित को भी इन बोलियों में समझाया गया है।

एलईडी और प्रोजेक्टर से जुड़ेंगे मोबाइल

जिन स्कूलों में एलईडी और प्रोजेक्टर जैसे सुविधाएं हैं, वहां शिक्षक मोबाइल को इससे जोड़ लेंगे। जहां ऐसे संसाधन नहीं हैं, वहां मोबाइल पर भी बच्चों को वीडियो दिखाए जाएंगे।

डाइट में व्याख्याता कर रहे रिकॉर्डिंग

डाइट में व्याख्याताओं ने इन वीडियो के लिए चित्र और ग्राफिक्स तैयार किए हैं। इसके साथ ही निमाड़ी और कोरकू बोलने वाले शिक्षकों की मदद से भाषा के वीडियो की रिकॉर्डिंग की जा रही है।

100 वीडियो लोड करने का लक्ष्य

डाइट के व्याख्याता अशोक वान्हरे ने बताया कि मार्च के अंत तक यू ट्यूब पर 100 वीडियो अपलोड करने का लक्ष्य है। एक अप्रैल से शुरू होने वाले सत्र में शिक्षक विद्यार्थियों को यह वीडियो दिखाएंगे। जिससे वे मनोरंजक ढंग से शिक्षा हासिल कर सकें।

वीडियो में यह है खास

- स्थानीय भाषा और बोली के आधार इन वीडियो को तैयार किया गया है।

- सामान्य ज्ञान में जिले से संबंधित जानकारी के वीडियो भी बनाए जा रहे हैं।

- गणित और पर्यावरण विषय को निमाड़ी व कोरकू में समझाया गया है।

- प्राथमिक शिक्षा के वीडियो में कोर्स के सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं को शामिल किया गया है।

विद्यार्थियों को मिलेगा लाभ

प्राथमिक शिक्षा के इन वीडियो से विद्यार्थी मनोरंजक ढंग से शिक्षा हासिल कर सकेंगे। निमाड़ी और कोरकू भाषा में वीडियो होने से आदिवासी और निमाड़ी क्षेत्र के बच्चे भी इससे जुड़ेंगे। यूट्यूब पर वीडियो अपलोड किए जा रहे हैं। नए शिक्षा सत्र से विद्यार्थियों को इससे जोड़ा जाएगा।

- विशेष गढ़पाले, कलेक्टर, खंडवा