*30 प्रतिशत से कम परीक्षा परिणाम वाली पांच स्कूलों दिए जाएंगे नोटिस

*जनजातीय विभाग द्वारा 63 हायर सेकंडरी और 94 हाई स्कूल हो रहे हैं संचालित

खरगोन। नईदुनिया प्रतिनिधि

जनजातीय कार्य विभाग द्वारा आदिवासी क्षेत्रों में संचालित स्कूलों ने कम संसाधनों और शिक्षकों की कमी के चलते बोर्ड परीक्षाओं में बेहतर परिणाम दिए। स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों ने कड़ी मेहनत से यह मुकाम हासिल किया।

विभाग द्वारा संचालित 94 हाई स्कूल और 63 हायर सेकंडरी स्कूल संचालित किए जा रहे है। इनमें से 17 हाई स्कूल और 2 हायर सेकंडरी स्कूलों के परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहे। वहीं 30 प्रतिशत से कम परीक्षा परिणाम वाली पांच हाई स्कूलों को विभाग द्वारा नोटिस दिए जाएंगे।

जिले के सात ब्लॉकों में संचालित हो रही अधिकांश स्कूलों में प्राचार्य और व्याख्याताओं की कमी है। कई संस्थाएं पिछले कुछ वर्षों से प्रभारियों के भरोसे ही चल रही हैं। संसाधनों की कमी के बावजूद कक्षा 10 वीं का परिणाम 77.53 प्रतिशत और कक्षा 12वीं का 76.36 प्रतिशत रहा। विभाग के सहायक संचालक अजय शर्मा ने बताया कि इस वर्ष कक्षा 10वीं में 7 हजार 320 विद्यार्थी दर्ज थे। इनमें से 7 हजार 80 विद्यार्थी ही परीक्षा में शामिल हुए। इनमें से 5 हजार 489 विद्यार्थी ही उत्तीर्ण हो पाए। इसी प्रकार कक्षा 12वीं में 5 हजार 731 विद्यार्थी दर्ज थे। इनमें से 5 हजार 677 विद्यार्थी परीक्षा में सम्मिलित हुए। इनमें से 4 हजार 331 विद्यार्थी ही उत्तीर्ण हो पाए।

30 प्रतिशत से कम

परीक्षा परिणाम वाली स्कूले

जिले की पांच स्कूलों के परीक्षा परिणाम 30 प्रतिशत से कम रहा। इनमें शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय केली, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मोगरगांव, शासकीय हाई स्कूल दामखेड़ा, शासकीय देवनाल्या और शासकीय हाई स्कूल कड़वापानी है। केली स्कूल का परीक्षा परिणाम भी सिर्फ 28.05 प्रतिशत रहा है। पिछले वर्षों में ही इस संस्था का परीक्षा परिणाम बहुत कमजोर था।

इस संबंध में अधिकारियों ने कहा कि संबंधित संस्था में कोई भी नियमित शिक्षक नहीं है। संस्था एक शिक्षक द्वारा संचालित की जा रही है। जिले में सबसे कम परिणाम देने वाली संस्थाओं के खिलाफ विभागीय अधिकारियों ने कार्रवाई की तैयारी शुरू कर दी है। सहायक संचालक शर्मा ने बताया कि 30 प्रतिशत से कम परिणाम देने वाली संस्थाओं पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जाएगी।

इन संस्थाओं ने दिया

100 प्रतिशत परीक्षा परिणाम

शासकीय हाई स्कूल पंधान्या, पीपरी, कन्या हाई स्कूल लोनारा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लोनारा, शास. नवीन कन्या हाई स्कूल खरगोन, हाई स्कूल डालका, कन्या शिक्षा परिसर खरगोन, हाई स्कूल शिवाना, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय अहीरखेड़ा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बिरुल, हाई स्कूल लालखेड़ा, हाई स्कूल काकड़दा, हाई स्कूल बडदिया सुर्ता, हाई स्कूल भामपुरा, कन्या हाई स्कूल पिपल्याबुजुर्ग, शास. हाई स्कूल मोगांवा और हाई स्कूल कवड़िया।

छात्र-छात्राओं को

कलेक्टर ने दी बधाई

जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित स्कूलों में कक्षा 12वीं व कक्षा 10वीं के तीन छात्र और तीन छात्राओं ने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। जनजातीय कार्य विभाग की सहायक आयुक्त शकुंतला डामोर ने जानकारी देते हुए बताया कि उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को कलेक्टर अशोक कुमार वर्मा ने मुंह मीठा कराया और पुष्प गुच्छ देकर सफलता पर बधाई दी।

इस संस्थाओं में रहा

30 प्रतिशत कम परिणाम

संस्था ग्राम प्रतिशत

शास.उच्चतर माध्यमिक विद्यालय केली 28.05

शास. उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मोगरगांव 20.00

पास. हाई स्कूल दामखेड़ा 17.29

शास. हाई स्कूल देवनाल्या 16.66

शास. हाई स्कूल कड़वापानी 0

स्कूलों में शिक्षकों की कमी

संस्था स्वीकृत कार्यरत रिक्त

हाई स्कूल 885 651 234

उच्चतर माध्यमिक विद्यालय 1126 718 410

::::::::::::::::::::::

विभाग द्वारा संचालित सभी शासकीय संस्थाओं ने कम संसाधनों के बीच बोर्ड का बेहतर परिणाम दिया है। आगामी शिक्षण सत्र में परिणाम को बेहतर बनाने के लिए प्रयास किए जाएंगे। वहीं 30 प्रतिशत से कम परिणाम देने वाली संस्थाओं पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। इन संस्थाओं के जिम्मेदारों की अलग से समीक्षा बैठक बुलाई जाएगी। ताकि उनकी समस्याओं का उचित निराकरण कर बेहतर परीक्षा परिणाम प्राप्त किया जा सके।

-शकुंतला डामोर, सहायक आयुक्त

जनजातीय कार्य विभाग, खरगोन