Naidunia
    Thursday, January 18, 2018
    PreviousNext

    'आहार, व्यवहार और निद्रा पर विद्यार्थी रखें नियंत्रण'

    Published: Mon, 19 Jun 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Mon, 19 Jun 2017 03:58 AM (IST)
    By: Editorial Team

    *संस्कृति ज्ञान परीक्षा में प्रावीण्य सूची में आए विद्यार्थी सम्मानित

    खरगोन। नईदुनिया प्रतिनिधि

    गायत्री परिवार द्वारा दिए गया नारा 'हम सुधरेंगे-युग सुधरेगा' को देश के सभी लोग अपना लें तो देश की समस्त समस्याएं हल हो जाएंगी। परिवार द्वारा आयोजित परीक्षा का उद्देश्य बच्चों को संस्कारवान बनाना और संस्कृति से से परिचित कराना है। एक संस्कारित छात्र देश का श्रेष्ठ नागरिक बन जाता है।

    यह विचार रविवार को जिला शिक्षा अधिकारी केके डोंगरे ने गायत्री शक्तिपीठ पर सम्मान समारोह में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को अपने आहार, व्यवहार और निंद्रा पर नियंत्रण रखना चाहिए। उन्होंने पालकों से भी आग्रह किया किया वे बच्चों की सुख सुविधाओं पर ध्यान देने के साथ ही उनके संस्कारों पर भी ध्यान दें।

    अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार द्वारा पिछले वर्ष आयोजित करवाई गई भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा की प्रावीण्य सूची में आने वाले विद्यार्थियों को रविवार सम्मानित किया गया। जिला स्तरीय और तहसील स्तर पर प्रावीण्य सूची में आने वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला शिक्षा अधिकारी डोंगरे, चेंबर ऑफ कॉमर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कैलाश अग्रवाल थे। अग्रवाल ने भी कार्यक्रम में विचार व्यक्त किए।

    परीक्षा के जिला संयोजक नंदकिशोर गुप्ता ने बताया कि गत पांच वर्ष में जिला राज्य स्तर पर प्रथम रहा है। पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में जिला स्तर पर 27 और खरगोन और गोगावां तहसील के 53 विद्यार्थियों को नकद राशि और प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया गया। इसी प्रकार करीब 60 शिक्षकों को भी सम्मानित किया गया। गोपाल अमझरे ने संचालन किया। लक्ष्मण पटेल ने आभार माना।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें