उज्जैन। महाकाल मंदिर प्रबंध समिति द्वारा संचालित प्रसाद यूनिट में चना दाल की कमी के कारण बुध्ावार को भगवान के लिए लड्डू प्रसाद नहीं बन पाए। जिम्मेदारों के अनुसार नियमित भुगतान नहीं होने के कारण बीते कुछ समय से यह स्थिति बनी है। हालांकि बुधवार शाम व्यापारी द्वारा चना दाल यूनिट में भेज दी गई। गुरुवार को फिर से लड्डू बनना शुरू होंगे।

बता दें कि मंदिर प्रबंध समिति मंदिर के प्रसाद काउंटरों से लड्डू प्रसादी का विक्रय करती है। चिंतामन स्थित यूनिट में लड्डू प्रसाद का निर्माण किया जाता है। 100, 200, 500 तथा 1 किलो वजन में पैकिंग के बाद इसे मंदिर स्थित प्रसाद काउंटरों पर विक्रय के लिए भेजा जाता है। हालांकि बीते एक सप्ताह से मंदिर में लड्डू प्रसाद की कमी बनी हुई है।

नहीं मिल रहे बड़े पैकेट

भक्तों को 500 ग्राम व 1 किलो के पैकिंग में प्रसाद उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। प्रसाद यूनिट प्रभारी उमेश दीक्षित ने बताया कि समय पर भुगतान नहीं होने से व्यापारी माल नहीं भेज रहे हैं। जो माल आ रहा है उसकी गुणवत्ता भी कमजोर है। मंगलवार दोपहर व्यापारी ने चना दाल भेजी थी, लेकिन वह गीली निकली, इसलिए उसे वापस कर दिया गया। नतीजतन बुधवार सुबह से लड्डू प्रसाद निर्माण का काम रुक गया। व्यापारी ने बुधवार शाम को फिर से चना दाल भेजी है। गुरुवार से पुन: लड्डू निर्माण का काम शुरू होगा। हालांकि कितना भुगतान होना शेष है, इस संबंध में अधिकारियों ने कोई जानकारी नहीं दी।

समिति देती है ठेका

मंदिर प्रबंध समिति प्रतिवर्ष कच्चे माल की आपूर्ति के लिए व्यापारियों को ठेका देती है। इस बार भी इंदौर और उज्जैन के कुछ व्यापारियों को ठेका दिया गया है। व्यापारी रवा, चनादाल, शकर का बूरा तथा सूखे मेवे की सप्लाई करते हैं। देशी घी समिति उज्जैन दुग्ध संघ से क्रय करती है।

औसतन 10 क्विंटल माल बनता है प्रतिदिन

लड्डू प्रसाद यूनिट में औसतन 10 क्विंटल लड्डू प्रसाद प्रतिदिन तैयार होता है। आमतौर पर इसकी बिक्री भी इतनी ही है। पर्वों के समय अतिरिक्त प्रसाद तैयार किया जाता है।

240 रुपए किलो मिलता है प्रसाद

महाकाल का लड्डू प्रसाद 240 रुपए किलो बिकता है। 100 ग्राम का पैक 30 रुपए, 200 ग्राम 60 रुपए, 500 ग्राम 120 तथा 1 किलो का पैक 240 रुपए में बेचा जाता है।

इनका कहना है

कच्चे माल की आपूर्ति में कठिनाई हो रही है। चना दाल बुधवार सुबह आना थी, लेकिन व्यापारी ने माल नहीं भेजा। इससे दिनभर लड्डू प्रसाद निर्माण प्रभावित हुआ। शाम को दाल आ गई है। जल्द ही सबकुछ ठीक हो जाएगा।

-शैलेष गुप्ता, खाद्य अधिकारी व लड्डू प्रसाद यूनिट के प्रभारी अधिकारी