नर्मदापुरम गौरक्षा जिला प्रमुख की हत्या

छह आरोपित गिरफ्तार व तीन फरार

सीहोर। नवदुनिया प्रतिनिधि

शुक्रवार तड़के बुदनी में नर्मदा ब्रिज के पास नर्मदापुरम जिला गौरक्षा प्रमुख सुरेंद्र यादव (33) की हत्या कर दी गई। वे ढाबा चलाते थे। पुलिस ने छह आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है और तीन फरार बताए जा रहे हैं।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुरेंद्र यादव का नर्मदा ब्रिज के पास हाईवे पर ढाबा है। जहां शुक्रवार को सुबह 4 बजे दो बाइक से चार लोग खाना खाने आए थे। यह लोग खाना खाने के पहले ढाबा के बाहर सुरेंद्र यादव की चार पहिया वाहन की फोटो खींचने लगे, जिसको लेकर विवाद शुरू हो गया। बात इतनी बढ़ी की मारपीट शुरू हो गई। ढाबे में काम करने वाले प्रत्यक्षदर्शी गोलू मांझी ने बताया कि झगड़ा खत्म होने के बाद ढाबे के कर्मचारी वापस आकर काम पर लग गए। जबकि सुरेंद्र यादव बाहर ही घूम रहे थे और दोनों बाइकों को छोड़कर झगड़ रहे चारों लोग मौके से चले गए। कु छ देर बाद एक अज्ञात बाइक सवार ढाबे पर आया और गोलू को बताया कि कु छ लोग ढाबे से 700 मीटर दूरी पर नर्मदा ब्रिज के पास वाले मंदिर के यहां सुरेंद्र यादव के साथ मारपीट कर रहे हैं। इसके बाद ढाबे के सभी लोग मंदिर के पास पहुंचे, तो सुरेंद्र गंभीर रूप से घायल अवस्था में सड़क पर पड़ा हुआ था। जहां से उसे घायल अवस्था में 100 डायल से बुदनी के सरकारी अस्पताल ले जाया गया। यहां से डॉक्टरों ने उसे होशंगाबाद रेफर कर दिया। जब सुरेंद्र को होशंगाबाद अस्पताल लेकर पहुंचे तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने यादवश्री ढाबे के कर्मचारी गोलू मांझी की रिपोर्ट पर आरोपित इमलेश राय, विष्णु शर्मा, मनीष भठ, अंकि त यादव, देवेन्द्र और दिलीप सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि सुनील गुप्ता, पवन सिकरवार और गणेश पंडित फरार हैं।

शराब माफिया है सभी आरोपित

बताया जाता है कि होशंगाबाद से बुदनी लगा हुआ है। जहां शराबबंदी होने के कारण यहां से शराब की अवैध रूप से सप्लाई की जाती है। इसको लेकर आए दिन ढाबों व हाईवे पर विवाद की स्थिति बनती है। सुरेंद्र यादव पर हमला करने वाले आरोपित शराब ठेके दार सुनील गुप्ता के कर्मचारी बताए जा रहे हैं।

चल रही है जांच

ढाबा संचालक की हत्या के मामले में 6 आरोपितों को गिरफ्तार कि या गया है। साथ ही मौके से दो बाइक व एक बोलेरो जब्त की गई है। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है।

संध्या मिश्रा, टीआई बुदनी।

........

शराब ठेकेदार से विवाद की संभावना

सभी आरोपित शराब कारोबारी सुनील गुप्ता के कर्मचारी हैं। इससे इस बात को बल मिलता है कि शराब ठेकेदार सुनील गुप्ता और ढाबा संचालक सुरेंद्र यादव के बीच शराब बेचने और पैसों के लेनदेन को लेकर कोई विवाद चल रहा था। हालांकि यह जांच का विषय है, लेकि न सबसे ज्यादा इसी बात की संभावना नजर आ रही है।

एसएस पटेल, एसडीओपी बुदनी।