भोपाल। लंबे समय तक हाई प्रोफाइल रही विदिशा संसदीय सीट पर भाजपा ने स्थानीय नेता रमाकांत भार्गव को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का उत्तराधिकारी बनाया है। भार्गव की पहचान पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के समर्थक के तौर पर है। सुषमा इस सीट से दो बार सांसद का चुनाव जीत चुकी हैं।

इससे पहले शिवराज सिंह चौहान लगातार पांच बार यहां के सांसद रहे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी और रामनाथ गोयनका जैसे दिग्गजों को सांसद बनाने वाली विदिशा संसदीय सीट पर भार्गव का मुकाबला कांग्रेस के शैलेंद्र पटेल से हो रहा है, जो छह माह पहले हुए विधानसभा चुनाव में विधायक का चुनाव हार चुके हैं। उन्हें मुख्यमंत्री कमलनाथ का समर्थक माना जाता है।

भार्गव और पटेल के चयन के साथ यह सीट हाईप्रोफाइल सीटों की श्रेणी से बाहर आ गई है। पिछले तीन दशक से भाजपा की जीत का पर्याय बनी इस सीट पर भार्गव का चयन इसलिए भी किया गया, क्योंकि यहां ब्राम्हण मतदाताओं की संख्या ठीक-ठाक है। कांग्रेस के आखिरी सांसद प्रतापभानु शर्मा को भी ब्राम्हण होने का लाभ मिलता रहा है।