उज्जैन। श्रावण मास में सोमवार को भगवान महाकाल की तीसरी सवारी निकलेगी। भक्तों को भगवान महाकाल के तीन रूप में दर्शन होंगे। राजाधिराज रजत पालकी में चंद्रमौलेश्वर, हाथी पर मनमहेश और गरुढ़ पर शिव तांडव रूप में सवार होकर भक्तों को दर्शन देने निकलेंगे।

सभा मंडप में पूजन के पश्चात शाम 4 बजे राजा की पालकी नगर भ्रमण के लिए रवाना होगी। निर्धारित मार्गों से होकर सवारी शाम करीब 5 बजे मोक्षदायिनी शिप्रा के रामघाट पहुंचेगी।

यहां पुजारी शिप्रा के जल से भगवान का अभिषेक कर पूजा अर्चना करेंगे। पूजन पश्चात सवारी मंदिर की ओर रवाना होगी। शाम 7.15 बजे पालकी पुन: मंदिर पहुंचेगी। पश्चात संध्या आरती होगी।