16 एमडीएस-71 केप्शनः लदूना में निकले वरघोड़े में हाथी पर सवार श्रद्घालु।

16 एमडीएस-72 केप्शनः लदूना की गलियों से निकलता हुआ वरघोड़ा।

सीतामऊ/लदूना। नईदुनिया न्यूज

लदूना में भगवान आदिनाथ के अंजनशलाका प्रतिष्ठा महामहोत्सव के छठे दिन श्री आदिनाथ भगवान का वर्षीदान वरघोड़ा निकला। नवीन जैन मंदिरजी से प्रारंभ हुए वरघोड़े में आचार्य भगवंत श्रीमद्विजय पद्मभूषणरत्न सूरीश्वरजी व साधु-साध्वी मंडल भी शामिल हुए।

प्रमुख मार्गों से होते हुए जुलूस जैन रिसोर्ट में बनी अयोध्या नगरी पहुंचा। यहां प्रभु का दीक्षा कल्याणक हुआ। अहमदाबाद के संगीतकार आशुतोष व्यास ने दीक्षा गीत की प्रस्तुति दी। अयोध्या नगरी में शासन रत्न मनोजकुमार हरण द्वारा मूलनायक प्रभु आदिनाथ को नवीन मंदिरजी में विराजमान करने की बोली लगाई गई। वरदीचंद धींग, अशोककुमार विश्वासकुमार ओस्तवाल, पारसमल छगनलाल ओस्तवाल, गुणसागरदेवी माणकलाल मूणत, सुनील मूणत रतलाम, डॉ. बाबूलाल अरविंदकुमार ओस्तवाल ने बोलियां लगाईं। दोपहर में श्री नाकोड़ा भैरव देव का महापूजन भी हुआ। इसमें 54 जोड़े शामिल हुए। सुबह के स्वामी वात्सल्य का लाभ अमृतलाल ओस्तवाल परिवार व शाम के स्वामी वात्सल्य का लाभ बाबूलाल अशोककुमार ओस्तवाल परिवार ने लिया।