मंडला।नईदुनिया प्रतिनिधि

प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश दीपक कुमार त्रिपाठी ने मंगलवार को कोर्ट पहुंच कर पदभार ग्रहण किया। इसके पूर्व वे बालाघाट में विशेष न्यायाधीश के रूप में सेवाएं दे रहे थे। इसी तरह स्वप्नश्री सिंह व्यवहार न्यायाधीश वर्ग-3 के स्थान पर शोभना गौतम ने पदभार ग्रहण किया। वे रीवा से स्थानांतरित होकर आए हैं। दोनों न्यायाधीशों के पदभार ग्रहण के बाद जिला अधिवक्ता संघ द्वारा स्वागत समारोह आयोजित किया गया। अधिवक्ता संघ के सभाकक्ष में न्यायाधीश दीपक त्रिपाठी व शोभना गौतम का जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राकेश तिवारी द्वारा पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया गया। श्री त्रिपाठी ने इस दौरान कहा कि मां नर्मदा के तट में पदस्थ होना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मेरी दिली तमन्ना भी थी कि मुझे न्यायिक सेवा करने हेतु मंडला में भी अवसर मिले जो आज नर्मदा जी के आसीम कृपा से पूर्ण हुई।

शोभना गौतम ने कहा कि मेरा मंडला से पुराना रिश्ता है। मेरी शिक्षा में मंडला का योगदान रहा है। विशेष न्यायाधीश विजय कुमार पाण्डेय ने बार और बेंच के महत्व पर प्रकाश डालते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता प्रकाश पाठक के जीवन व कार्यशैली पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि आपकी कार्यक्षमता, गतिशीलता एक नौजवान अधिवक्ता से 84 वर्ष की उम्र होते हुए भी ज्यादा है। द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश प्रकाश कसेर, तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश आशीष कुमार मिश्रा, एके सोंदिया चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश, ओपी रजक सीजेएम व अन्य न्यायाधीश, जिला अधिवक्ता संघ के पदाधिकारी व बड़ी संख्या में अधिवक्ता उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन संघ के सचिव देवाशीष झा द्वारा किया गया।

दो नवागत न्यायाधीशों ने ग्रहण किया पदभार, अधिवक्ता संघ ने किया स्वागत

17एमडीएल22 मंडला। न्यायधीशों का पुष्पगुच्छ से स्वागत करते अधिवक्ता।

17एमडीएल23 मंडला। कार्यक्रम में उपस्थित अधिवधवक्तागण।

सहायक आयुक्त को हटाने आदिवासी महापंचायत ने सौंपा ज्ञापन

17एमडीएल24 मंडला। तहसीलदार को ज्ञापन सौंपते आदिवासी समाज के पदाधिकारी।

मंडला। नईदुनिया प्रतिनिधि

आदिवासी महापंचायत महाकौशल द्वारा सहायक आयुक्त संतोष शुक्ला को हटाने की मांग को लेकर मंगलवार को राज्यपाल, मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में बताया गया कि सहायक आयुक्त संतोष शुक्ला 7 वर्षों से जिले में पदस्थ हैं। इनके द्वारा फर्जी तरीके से स्कूलों के एसएमडीसी मद खाता के माध्यम से पैसे डालकर आहरित किया गया है।पिछले कुछ वर्षों में सहायक आयुक्त का कई बार स्थानांतरण भी हुआ लेकिन हर बार किसी न किसी तरह उन्होंने अपना स्थानांतरण रूकवा लिया। ज्ञापन में बताया गया कि पूर्व में भी इस संबंध में ज्ञापन सौंपकर 15 दिनों में कार्रवाई की मांग की गई थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। यदि 24 अप्रैल के पूर्व सहायक आयुक्त पर कार्रवाई नहीं की जाती है तो आदिवासी समाज आदि उत्सव में शामिल नहीं होगा।

आदि उत्सव की तैयारियों में जुटे जिले के आला अफसर

मंडला। रामनगर में आयोजित होने वाले आदि महोत्सव के लिए जोरशोर से तैयारियां की जा रही हैं। इस आयोजन में आने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े इसके लिए जिला प्रशासन के अधिकारियों द्वारा विशेष तैयारियां की जा रही है। वाहन पार्किंग, लोगों के रूकने, पेयजल आदि के लिए व्यवस्थाएं बनाई जा रही हैं। कलेक्टर ने कहा है कि इस महोत्सव में शामिल होने आ रहे लोग गर्मीं के मौसम को देखते हुए पीने का पानी तथा आवश्यक खाद्य सामग्री अपने साथ जरूर लाएं। नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्रों और आंगनवाड़ी केन्द्र ओआरएस के पैकेट अवश्य रखें।