खबर का असर

-शासकीय अस्पताल में वर्षों बाद हुई रोकस कार्यकारीणी बैठक

फोटो है----

महू। नईदुनिया प्रतिनिधि

शासकीय आंबेडकर अस्पताल की रोगी कल्याण समिति की बैठक वर्षों बाद हुई। यह बैठक रोकस कार्यकारीणी की थी जिसमें अस्पताल में फै ल रही गंदगी से निजात दिलाने के लिए दो विभागों के इंजीनियरों से योजना बनवाने का निर्णय लिया गया। वहीं एनआरसी के यर टेकर को अनुपस्थित रहने पर शोकॉज नोटिस देने के निर्देश दिए गए।

शासकीय आंबेडकर अस्पताल की रोगी कल्याण समिति की बैठक वर्षों से नहीं हो रही थी। इस समाचार को नईदुनिया ने सात फरवरी के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित कि या था। इसके बाद गत दिनों एसडीएम अंशुल गुप्ता ने रोकस कार्यकारिणी की बैठक ली। चूंकि यह बैठक कार्यकारिणी की थी इसलिए इसमें कोरम पूरा होने पर नाममात्र के पुराने सदस्यों की मौजूदगी में संपन्न हुई। बैठक में सीएमएचओ, अध्यक्ष एसडीएम अंशुल गुप्ता, लोक निर्माण विभाग के एसडीओ एसएन सोनी, वरिष्ठ चिकि त्सक उमेश गोयल, अस्पताल प्रभारी एचआर वर्मा मौजूद थे जबकि इसमें स्वास्थ्य के क्षेत्र में सेवाएं देने वाले दो अन्य लोगों को सदस्य बनाया जाता है लेकि न समिति लंबे समय से भंग होने के कारण ये दो नए सदस्यों की नियुक्ति नहीं हो पाई।

यह लिया निर्णय

बैठक में निर्णय लिया गया कि अस्पताल के पीछे पुरानी इमारत जो अब जर्जर हो चुकी है व उसमें एक्सपायरी डेट की दवाएं भरकर रखी गई है उसे तोड़कर नई बनवा जाए ताकि उस स्थान का उचित उपयोग हो सके। इसके लिए जल्द ही योजना व बजट बनाने की बात कही गई। इसके अलावा अस्पताल की मूल समस्या गंदगी व ड्रेनेज लाइन को बदलने के विषय पर भी चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि यह ड्रेनेज लाइन अस्पताल के निर्माण के समय डाली गई थी जो अब पूरी तरह खराब हो गई। इसे बदलने से ही समस्या का स्थायी निराकरण होगा। क्योंकि वर्तमान में इस लाइन के चोक होने व टूटने के कारण अनेक स्थानों पर गंदा पानी बाहर बह रहा है। इसके लिए लोक निर्माण विभाग के इंजीनियर व छावनी परिषद के इंजीनियर से संयुक्त रुप से योजना तैयार कराने का निर्णय लिया गया।

अनुपस्थित के यर टेकर के शोकॉज नोटिस

एसडीएम अंशुल गुप्ता ने अस्पताल के एनआरसी विभाग का दो बार अलग-अलग समय पर निरीक्षण कि या। दोनों बार एनआरसी के यर टेकर सुधा जायसवाल अनुपस्थित मिलीं। इस पर बैठक में निर्देश पर सुधा जासयवाल को शोकॉज नोटिस दिया गया जिसका जवाब उन्हें सात दिन में देने को कहा गया। इसके साथ ही कार्यकारिणी में दो नए सदस्यों को भी रखा गया जिसमें एक संवेदना संस्था की संचालिका निशा शर्मा व राधाकि शन पटेल है।

----------------------