'इन्वेस्टर्स समिट हो रही है मगर उद्योग नहीं लग रहे'

देपालपुर। हफ्तेभर में कांग्रेस की दूसरी बड़ी रैली देपालपुर में हुई। रविवार को यहां प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ पहुंचे। इस कार्यक्रम को किसान महापंचायत नाम दिया गया, जहां करीब तीस हजार लोग पहुंचे थे। यह भीड़ कांग्रेस नेताओं के लिए भी काफी उत्साहित करने वाली थी। कमलनाथ ने यहां बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और किसानों की बदहाली जैसे सभी मुद्दों पर प्रदेश सरकार को जमकर घेरा। इस रैली में देपालपुर जनपद पंचायत अध्यक्ष प्रेमलता डाबी और उनके पति मिश्रीलाल आयोजनकर्ता विशाल पटेल के नेतृत्व में फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए। यहां आमसभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में बदलाव आ रहा है, परंतु मुझे चिंता है कि युवा तड़प रहा है, भटक रहा है। हमारे यहां बीते 13 साल से इन्वेस्टर्स समिट हो रही है मगर उद्योग नहीं लग रहा, उल्टा बंद हो रहा है, जिसके चलते युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो युवाओं को मिलने वाले वेतन में सरकार अपनी ओर से 25 प्रश मिलाएगी।

कमलनाथ ने किसान महापंचायत में जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की आलोचना की, वहीं कांग्रेस की सरकार बनने पर लोगों को एक वादा भी दे दिया। उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री सरकारी खर्चे पर जन आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं। ऐसा लगता है मानो वह आशीर्वाद लेने नहीं आशीर्वाद खरीदने आए हैं। विज्ञापनों में 1 महीने में 200 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। मैं प्रदेश के मुखिया से कहना चाहता हूं कि यह 200 करोड़ रुपए देपालपुर के युवा बेरोजगारों में को दे दें तो बेरोजगारी खत्म हो जाएगी।

सभा में अजय सिंह राहुल भैया ने भी संबोधित किया। उन्होंने प्रदेश में हो रही दुष्कर्म की घटनाओं एवं बड़ी संख्या में किसानों द्वारा की जा रही आत्महत्याओं को भाजपा सरकार की विफलता का प्रमाण बताया। उन्होंने कहा कि मैं शिवराज सिंह के झूठ पर पीएचडी कर रहा हूं। सिंह ने कहा कि जनता ने उन पर जूते फेंके, पत्थर फेंके, उनका विरोध किया तो उन्होंने इसका आरोप मुझ पर लगा दिया। मैं कहना चाहता हूं कि प्रदेश की जनता अब आपको समझ चुकी है। मैं विरोध करता हूं तो सामने से करता हूं और जब विधानसभा में इनका विरोध किया तो यह विधानसभा छोड़कर भाग गए थे। यहां अरुण यादव ने भी लोगों को संबोधित किया।

कार्यक्रम की शुरुआत में स्वागत भाषण देते हुए आयोजक विशाल पटेल ने लोगों से कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाए जाने का समर्थन मांगा। इस पर कमलनाथ मुस्कुराते नजर आए। पटेल ने कहा कि आज देपालपुर के शासकीय चिकित्सालय की दुर्दशा किसी से छुपी हुई नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनती है वे एक विशाल अस्पताल का निर्माण यहां करवाएंगे।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में पूर्व विधायक सत्यनारायण पटेल ने भी लोगों को संबोधित किया। कार्यक्रम को विधायक तथा प्रदेश कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष जीतू पटवारी, जिला कांग्रेस के अध्यक्ष सदाशिव यादव, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष संतोष ठाकुर, ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन सोनी, कार्यकारी अध्यक्ष बहादुर पवार ने भी लोगों के बीच अपनी बात रखी। कार्यक्रम का संचालन राजेंद्र दुबे ने किया। आभार कांग्रेस नेता एम राशिद ने माना। मंच पर मुख्य रूप से पूर्व मंत्री सज्जान सिंह वर्मा, पूर्व मंत्री रामेश्वर पटेल, पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू, पूर्व विधायक अंतर सिंह दरबार, तुलसीराम सिलावट, नगर परिषद अध्यक्ष चंद्रजीत यादव, हरिनारायण पटेल आदि उपस्थित थे।

सैकड़ों मंच लगे स्वागत के लिए

जगदीश पटेल वेयरहाउस सभा स्थल तक सैकड़ों की तादाद में स्वागत मंच लगे थे जिनसे कार्यकर्ता अपने नेताओं का स्वागत कर रहे थे। पूर्व विधायक सत्यनारायण पटेल ने भी मंच लगाया, जहां से वरिष्ठ नेता रामेश्वर पटेल की उपस्थिति में अतिथियों का स्वागत किया गया। स्वागत के पश्चात जब पटेल कमलनाथ का स्वागत करने गए तो उन्होंने पटेल को हाथ पकड़कर रथ में अपने साथ खड़ा कर लिया।

भाजपा छोड़ कांग्रेस में पहुंचीं जनपद अध्यक्ष

देपालपुर। जनपद पंचायत की भाजपा से अध्यक्ष प्रेमलता डाबी और उनके पति मिश्रीलाल डाबी भी मंच पर मौजूद रहे। यहां उन्होंने विशाल पटेल के नेतृत्व में तथा प्रदेशध्यक्ष कमलनाथ के सामने कांग्रेस की सदस्यता ली। इस कदम ने कांग्रेस नेताओं में खासा जोश भर दिया और कांग्रेस जिंदाबाद के नारे लगने लगे। विशाल पटेल को भी इसके लिए प्रदेश नेतृत्व से खासी शाबासी मिली। उल्लेखनीय है कि इसी साल मार्च में डाबी कांग्रेस छोड़ भाजपा में सम्मिलित हुई थीं तथा अब दोबारा कांग्रेस में चली गई।

सबसे बड़ी सभा

कांग्रेस की यह सभा देपालपुर में काफी चर्चाओं में रही। यहां करीब 30 हजार लोग पहुंचे थे। इसका बड़ा कारण था विधानसभा के सभी नेताओं की एक साथ मौजूदगी। वहीं आसपास के जिलों और तहसीलों से भी यहां बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता पहुंचे।