महावीर जयंती पर निकली रथयात्रा में शामिल हुए समाजजन

महू। 'जियो और जीने दो' का घोष करने वाले जैन समाज के अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर की जयंती धूमधाम से मनाई गई। भगवान महावीर ने रजत जड़ित रथ में सवार होकर नगर भ्रमण कि या। रास्तेभर समाजजनों ने पूजा-अर्चना कर रथयात्रा का स्वागत कि या।

जैन समाज द्वारा बुधवार की सुबह रथयात्रा निकाली गई। भगवान महावीर की आकर्षक मूर्ति रजत जड़ित रथ में रखी गई थी। भगवान महावीर ने रथ में सवार होकर नगर भ्रमण कि या। रथयात्रा का अनेक स्थानों पर स्वागत कि या गया। समाजबंधुओं द्वारा भगवान की पूजा-अर्चना की गई। रथ में सारथी के रूप में बैठने की बोली एक लाख ग्यारह हजार रुपए राके श जैन द्वारा लगाई गई। रथयात्रा में समाज के पुरुष सफे द वस्त्र व महिलाएं के सरिया वस्त्र पहन कर शामिल हुईं। रथयात्रा का समापन बड़े मंदिरजी पर हुआ, जहां भगवान के कलशाभिषेक कि ए गए। शाम को चंपावाला बाग में स्नेह सम्मेलन का आयोजन कि या गया, जिसमें अनेक कार्यक्रम आयोजित कि ए गए।