तीन साल बाद लोक निर्माण विभाग ने शुरू कि या कार्य,

महू। सिमरोल रोड ओवरब्रिज के पास सर्विस रोड के निर्माण का काम शुरू कर दिया गया। गत तीन वर्ष से इस सर्विस रोड के निर्माण की मांग की जा रही थी। इसके लिए गीता भवन ट्रस्ट ने डेढ़ वर्ष पूर्व गीता भवन का एक भाग स्वयं तोड़ दिया था मगर अन्य औपचारिकताओं के कारण यह निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका।

सिमरोल रोड ओवरब्रिज के पास सर्विस रोड नहीं बनने से काफी परेशानी हो रही थी। सर्विस रोड नहीं होने के कारण उपनगरीय बसों का संचालन दूसरी ओर से कि या जा रहा था, जबकि एक ओर बने सर्विस रोड पर यातायात का काफी दबाव होने लगा था। चक्कीवाले महादेव मंदिर से प्रशांति अस्पताल की ओर के सर्विस रोड में सबसे बड़ी बाधा गीता भवन की इमारत तथा बीच में लगा ट्रांसफॉर्मर था। गीता भवन ट्रस्ट ने इसमें सहयोग करते हुए अपनी दुकान व प्रथम मंजिल स्वयं तोड़ ली थी। कु छ समय पूर्व विद्युत विभाग ने ट्रांसफॉर्मर को भी हटा दिया।

पूर्व में इस सर्विस रोड का निर्माण ब्रिज कॉर्पोरेशन को करना था मगर लगातार देरी के चलते कॉर्पोरेशन ने इसे बनाने से मना कर दिया। बताया जाता है कि इसके लिए एक समय तय कि या गया मगर विद्युत विभाग द्वारा समय पर ट्रांसफॉर्मर न हटाना व गीता भवन की बाधक बन रही इमारत को नहीं हटा पाना कारण रहा। इन कारणों से कॉर्पोरेशन ने अपना सामान हटा दिया। अब इसका निर्माण लोनिवि द्वारा कि या जा रहा है। विभाग ने बुधवार से निर्माण कार्य शुरू कर दिया व एक सप्ताह में पूरा हो जाएगा।

बारह लाख रुपए खर्च होंगे

चक्कीवाले महादेव मंदिर से ब्रिज के आरंभ तक करीब डेढ़ सौ मीटर लंबा सर्विस रोड बनाया जा रहा है जो पौने चार मीटर चौड़ा होगा। सर्विस रोड पर करीब बारह लाख रुपए खर्च होंगे। यह आरसीसी का होगा।

छोटे वाहन ही निकल सकेंगे

वर्तमान में जिस प्रकार का यह सर्विस रोड बनाया जा रहा है, उससे आशंका व्यक्त की जा रही है कि यहां से सिर्फ छोटे वाहन निकल सकें गे, जबकि आवश्यकता उपनगरीय बसों के आवागमन के लिए है। बताया जाता है कि मंदिर के पास रोड संकरा हो जाएगा। साथ ही गीता भवन की प्रथम मंजिल जो तोड़ी गई, उसके पिलर अभी भी बाहर निकले हुए हैं। इस कारण उपनगरीय बसें या बड़े वाहन निकलने में परेशानी होगी। साथ ही मंदिर के पास बने बोगदों पर अंधा मोड़ है जहां हमेशा ही दुर्घटना की आशंका बनी रहेगी।

-विभाग द्वारा सर्विस रोड का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है जो एक सप्ताह में पूरा कर दिया जाएगा। बाधाएं हटाने में देरी के कारण इसका कार्य देरी से शुरू हो सका। -एसएन सोनी, एसडीओ लोनिवि महू