सैलून में पिता की शेविंग बना रहा था बेटा, अचानक दुकान में घुसी आल्टो, पिता- पुत्र जख्मी

17 एचओएस 01

सिवनी मालवा। इस तरह हादसे में दुकान खराब हो गई।

सिवनी मालवा। ग्राम रावनपीपल में मुख्य मार्ग स्थित एक सैलून की दुकान में शुक्रवार दोपहर तेज रफ्तार आल्टो कार अनियंत्रित होकर घुस गई। हादसा इतना भीषण था की गाड़ी ने दुकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर दी, मौके पर मौजूद सैलून संचालक संजय सेन और उसके पिता लक्ष्मीनारायण सेन घायल हो गए। हादसे की जानकारी लगते ही यहां भीड़ जमा हो गई, और घायल पिता- पुत्र को सरकारी अस्पताल इलाज के लिए भेजा गया। घायल लक्ष्मीनारायण सेन ने बताया कि दुकान में मेरा बेटा संजय मेरी सेविंग कर रहा था, अचानक एक कार तेज स्पीड से आई और बहकते हुए सीधे दुकान में आकर घुस गई। उल्लेखनीय है कि मुख्य मार्ग पर रेत से भरे ओवर लोडिंग वाहन तेज गति से सडकों पर दौड़ रहे हैं। आए दिन सडक दुर्घटनाएं हो रही है लेकि न प्रशासन का इस ओर ध्यान नही है। अनियंत्रित कार दुकान में घुसने से सैलून दुकान पूरी टूट गई और अंदर रखा सामान भी खराब हो गया।

00000000000000000000000000000000

कीटनाशक दवा दुकानों पर छापा, कार्‌रवाई की सूचना हुई लीक

जांच टीम की कार्‌रवाई पर संदेह, एसडीओ नहीं दे पाए जानकारी

फोटो 17 एचओएसएच 02

सिवनी मालवा। दवा दुकान पर जांच करते हुए एसडीएम।

सिवनीमालवा। कृषि विभाग शहर में कीट नाशक दवा व्यापारियों पर मेहरबान है। कृषि विभाग द्वारा समय-समय पर कारवाई के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। सूत्रों की मानें तो कृषि जब भी कोई कारवाई होती है तो इसकी भनक पहले ही दुकान संचालकों को हो जाती है। कलेक्टर के निर्देश मिलने के बाद शुक्रवार को भी कृषि विभाग और राजस्व विभाग की संयुक्त टीम ने कीटनाशक दवा दुकानों पर कारवाई की। जब मीडिया ने कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारी संजय पाठक से छापामार कारवाई के विषय में जानकारी मांगी गई तो वे मोबाईल पर जबाब नही दे पाए और एसडीएम तहसीलदार से जानकारी लेने की बात कहने लगे।

लंबे समय से एक ही स्थान पर पदस्थ अफसरः

सिवनीमालवा कृषि विभाग में कृषि विभाग के एसडीओ संजय पाठक लंबे समय से एक ही स्थान पर पदस्थ हैं। सूत्रों की मानें तो कीटनाशक दवा संचालकों से कृषि अधिकारी के दोस्तााना संबंध बन गए है, जिसके चलते कृषि विभाग व्यापारियों पर कब कारवाई करता है कु छ पता नहीं चलता है, और कु छ व्यापारियों पर कारवाई होती भी है तो वह महज औपचारिकता बनकर रह जाती है।

कि सान हो रहे बर्बादः

कृषि विभाग और कीटनाशक व्यापारियों की मिली भगत से कि सानों का सीधा नुकसान हो रहा है। कि सानों को महंगे दामों में नकली कीट नाशक दवाएं बेची जा रही हैं, लेकि न आज तक कोई कारवाई नहीं हुई। कृषि विभाग में कई बार कि सानों ने लिखित शिकायतें भी की, लेकि न कोई कार्‌रवाई नहीं की जाती। कृषक रमेश पाटिल ने बताया कि गांव में कि सानों को फसलों में लगने वाली नकली दवाएं बेची जा रही हैं लेकि न कृषि विभाग लगातार अनदेखी कर रहा है। वरिष्ठ अधिकारियों को इस ओर ध्यान देना चाहिए जिससे कि सानों को नुकसान ना हो। कृषि विभाग के एसडीओ पाठक को जब मोबाइल लगाया गया तो उन्होंने जबाब नहीं दिया।

जांच की हैः

कीटनाशक दवा दुकानों पर छापामार कारवाई के लिए उपर से आदेश आए थे, जिसके चलते कृषि विभाग और राजस्व अमले द्वारा दुकानों पर छापामार कारवाई की गई है।

रविशंकर राय, एसडीएम।