देवास। सतवास तहसील के ग्राम निमलाय में एक आरोपी ने युवती के साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद आरोपी एक और बालिका को उठाकर ले जा रहा था तो बालिका ने शोर मचाया जिस पर लोगों ने उसे बचा लिया।

दोनों घटनाओं से गुस्साए आदिवासियों और जयस संगठन ने रविवार को कांटाफोड़ थाने का घेराव कर दिया। साथ ही बिजवाड़-सतवास मार्ग पर चक्काजाम भी किया। एएसपी कन्नौद डॉ. नीरज चौरसिया की समझाइश पर मामला शांत हुआ। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के अनुसार ग्राम नीमलाय में 40 वर्षीय युवक बद्री पिता धन्नालाल पर ग्रामीणों ने आरोप लगाए हैं। आरोप है कि बद्री ने 18 वर्षीय युवती के साथ 4 अगस्त को दुष्कर्म किया।

आरोपी सेव परमल के बहाने उसे बुलाकर ले गया और मुंह पर कपडा बांधकर दुष्कर्म किया। इसके बाद अगले ही दिन 5 अगस्त को आरोपी ने ग्राम निमलाय की ही एक 12 वर्षीय बालिका के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया। दोपहर 12 बजे जब बच्ची के माता-पिता घर पर नही थे तो आरोपी ने बालिका को घर से उठाकर छेड़छाड़ की और अपने साथ ले जा रहा था। बालिका के द्वारा शोर मचाने पर गांव के लोगों ने बालिका को बचाया।

दोनों घटनाओं से नाराज़ ग्रामीणों ने रविवार को आरोपी को फांसी देने की मांग करते हुए चक्काजाम कर थाने का घेराव कर दिया। स्थिति देख एडिशनल एसपी नीरज चौरसिया, बागली एसडीओपी अनिल सिंह राठौर, कन्नौद एसडीओपी निर्भय सिंह अलावा, कन्नौद थाना प्रभारी अमित सोनी, सतवास थाना प्रभारी हरीश जेजुलकर आदि पुलिस बल के साथ कांटाफोड़ पहुंचे।

काफी समय तक आदिवासी समाज के लोग आरोपी को फांसी देने की मांग करते रहे । अधिकारियों की समझाइश के बाद जैसे तैसे मामला शांत हुआ। एएसपी नीरज चौरसिया ने बताया आरोपी बद्री के खिलाफ रेप और छेड़छाड़ की धाराओं में मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।