आलीराजपुर। ग्राम मोराजी निवासी 14 वर्ष की बालिका को एक माह पहले तीन आरोपित अपहरण कर ले गए। उसके साथ एक आरोपित ने आठ दिनों तक बंधक बनाकर दुष्कर्म कि या। थाना सोंडवा में रिपोर्ट दर्ज नहीं करने के बाद परिजन पीड़िता के साथ शनिवार को एसपी कार्यालय पहुंचे और एएसपी सीमा अलावा को अवगत कराया।

आवेदन में पीड़िता ने बताया कि लगभग एक माह पहले वह बहन के साथ सिलोटा बाजार में कपड़े सिलवाने गई थी। वहां से आते समय तीन लोग आए और गंदी-गंदी बातें करने लगे। उनमें से बाइक सवार एक लड़के ने कहा कि ले चलो इसे। मैं इसे अपनी पत्नी बनाऊंगा। पीड़िता और छोटी बहन वहां से भागने लगे तो तीनों ने पीड़िता को पकड़ लिया और बाइक पर बैठाकर ले गए। चिल्लाने पर आरोपित ने जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद आरोपित पीड़िता को ग्राम पुवासा में कि सी के घर लेकर गए और आरोपित भंगड़ा ने दुष्कर्म कि या। विरोध करने पर जान से मार डालने की धमकी दी। इसके बाद आरोपित पीड़िता को ग्राम बिलझरी ले गए और एक घर में चार रातों तक रखा तथा पीड़िता के साथ जबर्दस्ती की, फिर ग्राम सिलोटा लेकर गए और तीन दिनों तक रखा।

इस बीच परिजन सोंडवा थाने पहुंचे लेकि न पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की। पुलिस ने परिजन को रिश्तेदारों में बालिका को तलाश करने के लिए कहा। इसके बाद परिजनों को जानकारी लगी कि आरोपित भंगड़ा पिता दशरिया निवासी पटेल फलिया सिलोटा, लुलिया निवासी रुनमाल और उसके साथ एक अन्य व्यक्ति बालिका को अपहरण करले गए हैं तो वे रिपोर्ट लिखवाने सोंडवा थाने पहुंचे, लेकि न वहां रिपोर्ट नहीं लिखी और टालते रहे। बाद में पीड़िता को तीनों आरोपित सोंडवा थाने लेकर आए और परिजन को भी थाने बुलवाया गया व बालिका को उनके सुपुर्द किया।

'तुम्हें क्या मतलब, तुम तुम्हारी लड़की को कहीं और बेच दो"

आवेदन के परिजनों ने पुलिस से आरोपितों के खिलाफ के स दर्ज करने के लिए कहा, लेकि न आरोप है कि पुलिस अधिकारी ने केस दर्ज करने की बजाय परिजनों से कहा कि तुम्हें क्या मतलब, तुम तुम्हारी लड़की को कहीं और बेच दो। इसके बाद पुलिस ने परिजनों को थाने से रवाना कर दिया और आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

जांच कर रहे

इस संबंध में आवेदन प्राप्त हुआ है, जिसकी जांच करवाई जा रही है - सीमा अलावा, एएसपी, आलीराजपुर