सोहागपुर । महाशिवरात्रि के दौरान बुधवार शाम को यहां के शिव मंदिर में बांटी गई साबूदाने की खिचड़ी खाने के बाद 350 लोग बीमार हो गए, इनमें से छह गंभीर मरीजों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सोहागपुर के सरकारी अस्पताल में जगह कम पड़ने पर मंगल भवन को अस्थायी अस्पताल बनाकर यहां मरीजों को नीचे लिटाकर रस्सियों से बांटलें बांधकर उन्हें लगाई गईं। गुरुवार शाम तक तबीयत ठीक होने पर 125 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। इधर खाद्य विभाग ने जांच के लिए खिचड़ी का सेम्पल लिया है।

बुधवार शाम को शिवमंदिर में आयोजित महाशिवरात्रि मेला में श्रद्धालुओं को साबूदाने की खिचड़ी बांटी गई थी। यह खिचड़ी खाकर लोग घर पहुंचे इसके बाद उन्हें उल्टी-दस्त, सिरदर्द और पेटदर्द की शिकायत होने लगी। रात 12 बजे के बाद मरीजों का सरकारी अस्पताल पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया।

गुस्र्वार सुबह छह बजे तक मरीजों की संख्या 90 तक पहुंच चुकी थी। इसके बाद भी मरीजों की लगातार तादाद बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। होशंगाबाद जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. सुधीर डेहरिया और अन्य डॉक्टर भी सोहागपुर पहुंच गए। 30 बिस्तरों वाले सरकारी अस्पताल में जगह कम पड़ने पर यहां से पांच सौ मीटर दूर स्थित मंगल भवन को अस्थायी अस्पताल बनाकर मरीजों का उपचार किया गया।

अजबगांव की दस वर्षीय शीतल पिता छोटेलाल कहार को जिला अस्पताल रेफर किया गया। खिचड़ी खाने से बीमार हुई शीतर को पानी की कमी के कारण शॉक की स्थिति में आ गई थी। इसके बाद गुरुवार शाम को गंभीर रूप से बीमार चार बच्चे और एक महिला को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है।