मुरैना। सोमवार को अस्पताल में आयोजित नसबंदी शिविर में जिला अस्पताल प्रबंधन की गंभीर लापरवाही सामने आई है। नसबंदी ऑपरेशन के बाद अस्पताल प्रबंधन ने महिलाओं को सुरक्षित जगह भर्ती करने के बजाय अस्पताल के आंगन में फर्श पर गंदगी के बीच लिटा दिया।

इसके बाद जब परिजनों ने शिकायत शिकवे किए तब कहीं जाकर अस्पताल प्रबंधन ने महिलाओं को सर्जिकल वार्ड के पलंगों पर भर्ती करवाया। जिला अस्पताल में सोमवार को 45 महिलाओं के नसबंदी ऑपरेशन किए गए। ऑपरेशन के बाद महिलाओं को कुछ समय तक अस्पताल में भर्ती रखना होता है। लेकिन जिला अस्पता प्रबंधन ने शिविर से पहले महिलाओं को भर्ती रखने का कोई इंतजाम नहीं किया।

एन वक्त पर प्रबंधन ने अस्पताल के आंगन में फर्श बिछा दिया और यहां महिलाओं को एक साथ लिटा दिया। इस बात पर हंगामा मचा तो आनन फानन में सीएस और अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और महिलाओं को सर्जीकल वार्ड में शिफ्ट किया गया।

संक्रमण का था खतरा

परिजनों के मुताबिक जहां पर महिलाओं को फर्श बिछाकर लिटाया गया था। वहां बहुत गंदगी थी। यहां पर महिलाओं को संक्रमण का गंभीर खतरा था। परिजनों के मुताबिक पहले प्रबंधन ने कहा कि कुछ घंटे की बात है। इसके बाद छुट्टी हो जाएगी। लेकिन हंगामा मचने के बाद महिलाओं को दूसरी जगह शिफ्ट किया गया।

नहीं थे पलंग

इस मामले में सिविल सर्जन डॉ. अनिल सक्सेना से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अस्पताल में महिलाओं को लिटाने के लिए पलंग खाली नहीं थे। पलंग खाली कराने तक के लिए महिलाओं को कुछ समय के लिए फर्श पर लिटाया गया था। उनके मुताबिक कुछ समय बाद महिलाओं को पलंग दिलवा दिए गए।