मुरैना। पुलिस ने जिन आरोपितों को पकड़ा है, उनके घर गड़ोरा गांव के बिल्कुल आखिरी में बीहड़ में बना है। पुलिस लगातार दबिश दे रही थी, लेकिन पुलिस के पहुंचते ही आरोपित बीहड़ में उतर जाते थे। साथ ही पूरा गांव ही पुलिस की सूचना मिलते ही बीहड़ों में छिप जाता था, लेकिन रविवार को सुबह पुलिस जब गड़ोरा गांव पहुंची तो उसने बीहड़ की तरफ से घेरा डाला तब कहीं जाकर एक आरोपित पकड़ में आया। इसके साथ ही कई अन्य लोगों को पुलिस ने उठाया।

उल्लेखनीय है कि गड़ोरा गांव के अधिकतर लोग रेत के कारोबार से जुड़े हुए हैं। पकड़े गए आरोपित देवेन्द्र व किल्ली भाई हैं और इनका घर पर गांव में आखिरी में बीहड़ के किनारे है। इसलिए जब भी पुलिस कार्रवाई करने जाती तो ये बीहड़ में छिप जाते थे। इसलिए रविवार को पुलिस ने अपनी रणनीति बदली और बीहड़ की तरफ से गांव को घेरा। बताया जाता है कि इस दौरान एक आरोपित पुलिस की गिरफ्त में आ गया। एक आरोपित के गिरफ्त में आने के बाद दूसरे भाई ने भी पुलिस के सामने आकर सरेंडर कर दिया। हालांकि यह पता नहीं चल सका कि पुलिस ने किसे पहले पकड़ा था।

आरोपितों के आकाओं ने भी सरेंडर के कर दिए थे प्रयास शुरू

डिप्टी रेंजर को कुचलने के आरोपितों के आकाओं ने उनके सरेंडर के प्रयास शुरू कर दिए थे। जिससे मामले को जल्द निपटाया जा सके। संरक्षण देने वाले इसलिए आरोपितों को सरेंडर कराना चाहते थे, जिससे पुलिस का अवैध उत्खनन पर खलल कम हो जाए और मामला शांत हो। जिससे कुछ दिन बाद फिर से कारोबार को फिर से सुचारू किया जा सके। सरेंडर कराने वालों में वे लोग शामिल हैं, जिन पर रेत के ट्रक पुलिस से लूटने व टोल प्लाजा पर रेत के डंपर निकलवाने के लिए मारपीट करने के आरोप हैं।

सुबह तीन बजे से गड़ोरा व बीहड़ में पुलिस की सर्चिंग

पुलिस की टीम सुबह तीन बजे से ही गड़ोरा व आसपास के गांवों में सर्चिंग के लिए पहुंच गई। हालांकि पुलिस को सफलता नहीं मिली। पूरा ऑपरेशन तकरीबन पांच से छह घंटे चला। हालांकि पुलिस के पहुंचने से पहले ही इन गांवों के लोग घर छोड़कर गायब हो चुके थे।

कई लोगों को उठाया और गुप्त जगहों पर रखा

पुलिस ने आरोपितों के रिश्तेदार सहित मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर जिन लोगों से आरोपितों की बात होना सामने आई है। उन्हें पुलिस ने उठाया है। लेकिन सभी को अलग अलग जगहों पर रखा गया है।

इनका कहना है

गड़ोरा गांव सहित आसपास के गांव व बीहड़ में सुबह तीन बजे से ऑपरेशन शुरू किया गया था। पुलिस की कार्रवाई लगातार चल रही है और जल्द ही सफलता मिल जाएगी - अमित सांघी, एसपी, मुरैना