मुरैना। कैलारस थाने के हटीपुरा गांव से जिस छात्रा का अपहरण हुआ था, वह पुलिस को मिल गई है। पुलिस का दावा है कि घटना के बाद आरोपितों के यहां दबिश देने के चलते दबाव में आकर आरोपितों ने छात्रा को छोड़ा है।वहीं छात्रा ने पुलिस को जो बयान दिया है, उस बयान के बाद छात्रा की मां द्वारा करवाई गई एफआईआर ही झूठी साबित हो रही है।

13 साल की छात्रा की मां ने थाने में रिपोर्ट की थी कि छात्रा को आरोपित फेरन, वीरू, कल्ला और मुन्ना अगवा कर ले गए हैं। सूचना पर पुलिस ने आरापितों के यहां दबिश के लिए टीम बनाईं और टीमों ने काम शुरू किया। एसपी रियाज इकबाल भी मंगलवार को कैलारस थाने पहुंचे थे और स्टाफ को निर्देश दिए। इसी बीच बुधवार सुबह छात्रा अपने घर लौट आई। पुलिस ने छात्रा के बयान लिए तो छात्रा ने कहा कि वह निरारा में अपने फूफा के यहां गई थी। एसओ थाना कैलारस एनके शर्मा के मुताबिक छात्रा ने कहा कि उसके पिता घर से गायब थे और वह डरी हुई थी। इसलिए खुद ही फूफा के यहां चली गई थी। श्री शर्मा के मुताबिक इस बयान के बाद एफआईआर ही झूठी साबित हो रही है।

हो ये भी सकता है

सूत्रों की मानें तो छात्रा के पिता हरियान पर छात्रा को अगवा करने वाले आरोपितों के घर की एक महिला को अगवा करने का संदेह था। जिसके चलते आरोपितों ने छात्रा को अगवा किया था। सूत्रों का कहना है कि पुलिस की दबिश और समाज के लोगों के हस्तक्षेप के बाद बच्ची वापस आ गई है।

हमने बनाया था दबाव

हमने टीम बनाकर दबिश दी थी इसलिए आरोपितों ने बच्ची को छोड़ दिया। बच्ची ने कहा है कि वह खुद चली गई थी। दरअसल छात्रा के पिता और अपहरण के आरोपितों के बीच एक और विवाद चल रहा है। जिसके कारण ये सब हुआ। हमारा काम है जांच करना। जांच के बाद जो भी सामने आएगा उसके हिसाब से कार्रवाई होगी- रियाज इकबाल, एसपी मुरैना