मुरैना। विभिन्न दलों से लोकसभा का टिकट मांगने वाले दावेदार सोशल मीडिया का जमकर उपयोग कर रहे हैं। टिकट की लाइन में लगे दावेदार सोशल मीडिया पर अपने समर्थकों से पोस्ट डलवाकर अपने आप को टिकट की दौड़ में बनाए हुए हैं। जिले में केवल कांग्रेस ने ही टिकट घोषित नहीं किया है। इसलिए कांग्रेस से टिकट मांगने वाले दावेदार ही समर्थकों से पोस्ट करा रहे हैं। मसलन कभी भी उनके नाम की घोषणा हो सकती है। नाम पर मंथन चल रहा है।

इस तरह देखें कि किस तरह हो रही हैं पोस्ट

- कांग्रेस से टिकट शहर के उद्योगपति रमेश गर्ग टिकट मांग रहे हैं। हालांकि उनके नाम की चर्चा पिछले डेढ़ महीने से चल रही है। पिछले दो दिन में व्हाट्सएप के ग्रुपों में उनके फोटो सहित सौ फीसदी टिकट होने की पोस्ट चल रही हैं। साथ ही पोस्टों में उन्हें कद्दावर प्रत्याशी बताया जा रहा है। हालांकि मीडिया से श्री गर्ग ने अभी तक बात नहीं की है और न ही किसी तरह का इशारा किया है कि वे टिकट मांग रहे हैं या नहीं।

- जौरा क्षेत्र से कैलाश मित्तल का भी नाम कांग्रेस से वायरल हो रहा है। उनके समर्थन में समर्थकों ने सोमवार सुबह से ही पोस्ट करना शुरू किया है। साथ ही कहा है कि तकरीबन उनका नाम संगठन ने तय कर दिया है। सुबह से शहर के तकरीबन सभी ग्रुपों में यह मैसेज चल रहा है।

अपने संगठन को ब्लेकमैल करने का भी हथियार बनाया

कुछ नेताओं का जिनका टिकट संगठन ने काट दिया है। वे दूसरे दल में जाने की आशंका के पोस्ट सोशल मीडिया में करा रहे हैं। यानि वे सोशल मीडिया के माध्यम से अपने संगठन को ब्लैक मेल करने का प्रयास कर रहे है। जिससे संगठन उन्हें कहीं न कहीं से टिकट दे दे। ऐसा ही मामला मुरैना सांसद अनूप मिश्रा का देखने को मिला है। सोशल मीडिया पर पोस्ट आ रही हैं कि वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में हैं और वे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मुरैना से लड़ सकते हैं। बताया जाता है कि ये पोस्ट उनके समर्थक ही डाल रहे हैं। हालांकि इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है। जबकि मीडिया से कह चुके हैं कि भाजपा उनकी माता है वे उससे बदसलूकी नहीं कर सकते।

यह भी हो रहा है बार -बार वायरल

भाजपा ने जिले से नरेन्द्र सिंह तोमर को उम्मीदवार बनाया है। लेकिन अब सोशल मीडिया में चल रहा है कि संगठन ने उन्हें भोपाल से उतारना चाहता है और मुरैना से बीडी शर्मा आ रहे हैं। पिछले चार दिन से न केवल सोशल मीडिया पर इस बात की पोस्ट बार बार आ रही है।, बल्कि शहर में चर्चा भी काफी है। लेकिन इस संबंध में न तो संगठन के वरिष्ठ व जिम्मेदार नेता कुछ बोल रहे हैं और न ही श्री तोमर का कोई बयान आया है।