मुरैना। सुमावली से जौरा के बीच में पड़ने वाले नैरोगेज ट्रैक के आसन नदी के पुल में दरार आ गई हैं। दरारों को देखते हुए ट्रेनों के आवागमन को बंद कर दिया गया है। पुल में दरारों की जांच करने के लिए रेलवे के इंजीनियर भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने पुल की हालत को खराब बताया और रिपेयरिंग के बाद भी पुल को रेलवे संचलन के लिए अनुपयोगी बताया। इसे देखते हुए अनिश्चितकाल के लिए नेरोगेज ट्रेन को रद्द कर दिया गया है।

सुमावली व जौरा के बीच में आसन नदी पर नैरोगेज का पुल है। यह पुल रियासतकालीन है। जिससे ट्रेन गुजरती है। सोमवार को श्योपुर से ग्वालियर जाने वाली नेरोगेज ट्रेन गुजरी, तब पता चला कि पुल में दरार आई है। इसे देखते हुए जौरा स्टेशन से रेल पथ निरीक्षक आसन नदी के पुल पर पहुंचे। रेल पथ निरीक्षक ने पुल की जांच की तो पता चला कि पुल की नींव धंसक गई है और उसके नीचे से पानी निकल रहा था। सोमवार को पुल के पिलर धंसक गए। जिससे पुल और अधिक क्षतिग्रस्त हो गया और ट्रेन के गुजरने लायक नहीं बचा।

इसलिए पुल हुआ क्षतिग्रस्त

आसन नदी पर बना पुल सिंधिया रियासत काल में बना था। हालांकि बीच में रेलवे इस पुल की मरम्मत कराता रहा। लेकिन लंबे अरसे से पुल की मरम्मत नहीं की गई। अफसरों ने इस पर ध्यान नहीं दिया। इस वजह से पुल और अधिक जर्जर होता गया और सोमवार को उसके पिलर धंसक गए।

श्योपुर वाली ट्रेन ग्वालियर पहुंची

श्योपुर से ग्वालियर जाने वाली ट्रेन तो पुल से गुजरकर ग्वालियर पहुंच गई। लेकिन जब ग्वालियर से ट्रेन श्योपुर के लिए रवाना हुई तो पुल धंसकने की सूचना मिली। इसके बाद ट्रेन को बानमोर रेलवे स्टेशन पर रद्द कर दिया गया। इसके बाद यात्रियों को खासी परेशानी हुई। लोगों को सड़क मार्ग से अपने गंतव्य पर पहुंचना पड़ा।

क्षेत्र के लोगों को होगी परेशानी

नैरोगेज ट्रेन के अनिश्चितकाल के लिए बंद होने से लोगों बानमोर से लेकर श्योपुर तक के लोगों को परेशानी होगी। क्योंकि ट्रेन उन गांवों व स्टेशनों से होकर गुजरती हैं जहां पर बस मार्ग से आना जाना नहीं हो पाता। साथ ही ट्रेन से आने जाने पर यात्रियों को अधिक किराया भी नहीं देना पड़ता।

पुल नहीं है आवागमन के लायक

रेलवे ने धौलपुर से इंजीनियर किरोड़ी सिंहल को बुलाया और पुल की जांच कराई। इंजीनियर ने पुल की जांच करने के बाद कहा कि पुल इतना जर्जर हो चुका है कि यदि इसकी मरम्मत भी करा दी जाए तो भी आवागमन लायक नहीं हो पाएगा। इसके ऊपर से ट्रेन नहीं गुजर पाएंगी। यानि रेलवे को नया पुल बनाना पड़ेगा।