मुरैना। कांग्रेस के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने यहां चुनावी सभा में एक बार फ‍िर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा।

कांग्रेस उम्‍मीदवार रामनिवास रावत के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने राफेल सौदे के साथ ही देश में हुए अन्‍य कथित घोटालों को सिलसिलेवार गिनाया। सभा को मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने भी संबोधित किया। इस मौके पर सबलगढ़ के नेता सीपी शर्मा ने कांग्रेस की सदस्‍यता ली।

उन्‍होंने कहा चुनाव हो रहा हैं। आधे से ज्यादा चुनाव खत्म हो गया है। एक बात तय है कि चौकीदार ....... वो तो है। लेकिन मैं कुछ और कह रहा था कि चौकीदार प्रधानमंत्री नहीं बन सकता। फि‍र उन्‍होंने यह भी बताया कि यह नारा कहां से आरंभ हुआ।

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने पहले नारा चलता था कि अच्छे दिन आएंगे। पूरा देश कहता था। मोदी जी आते थे कहते थे 56 इंच की छाती है। भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़कर दिखाउंगा। जनता ने कहा कि हां भाई चौकीदार कह रहा है तो चौकीदार को टेस्ट कर लेते हैं। 2014 में पीएम बना दिया। पीएम बने तो काम शुरू किया। पहले लोगों काे दिखा कि उन्होंने युवा और किसानों की बात की। लेकिन भाई गले तो नीरव और मेहुल से लगते हैं। गरीब और माता बहनों से गले मिलते नहीं दिखते। जनता के मन में सवाल उठा। कुछ दिन बाद राफेल का मुद्दा सामने आया।पीएम मन की बात फ्रांस के राष्ट्रपति और हवाई जहाज बनाने वाली कंपनी से कर रहे हैं। यह सच्चाई है।

उन्होंने कहा कि कहा गया कि मनमोहन सिंह को अर्थव्यवस्था चलानी नहीं आती। पीएम बने तो जीएसटी लाए। आप मुरैना में किसी भी व्यापारी से पूछिए कि क्या इससे फायदा हुआ। आपको एक आदमी नहीं मिलेगा जो कहे कि हमें फायदा मिला है। अगर ऐसा कोई है तो मेरे पास ले आओ। मैं तो हिंदुस्तान भर में ढूंढ रहा हूं। आपको लाइन में लगा दिया। झूठ बोला काले धन के खिलाफ लड़ाई है। आपको लाइन में विजय माल्या, नीरव, ललित लगे दिखे। अगर काले धन से लड़ाई थी तो बैंक के सामने सिर्फ ईमानदार लोग ही क्यों खड़े थे।

राहुल गांधी ने कहा कि न्‍याय योजना से पैसा सीधे लोगों को मिलेगा। उन्‍होंने आरोप लगाया कि 5 लाख 55 हजार करोड़ रुपए 15 लोगों के माफ किए गए। इनमें अनिल अंबानी और नीरव जैसे लोग थे। किसानों और युवाओं का कितना कर्ज माफ किया। सिर्फ जीरो। इस मौके पर उन्‍होंने न्‍याय योजना को सिलसिलेवार समझाया।इससे देश की अर्थव्‍यवस्‍था आरंभ होगी।

मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने अपने संबोधन में आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने ऐसा प्रदेश हमें सौंपा जो किसानों की आत्महत्या में नंबर वन, बेरोजगारी, बलात्कार, भ्रष्‍टाचार में नंबर वन था। ऐसा प्रदेश हमें सौंपा। हमने वचन दिया कि हम कृषि क्षेत्र में क्रांति लाएंगे। राहुल गांधी ने हमें कहा कि हम किसानों को लाभ दें। हमने 75 दिनों में अपनी नीति का परिचय दिया। कर्जा माफी की कार्रवाई शुरू हुई। 21 लाख किसानों का कर्जा माफ हुआ। हम वचन बद्ध हैं कि चुनाव खत्म होते ही। प्रदेश के हर किसान का 2 लाख रुपए तक का कर्जा माफ करेंगे।केवल डिफाल्टर ही नहीं चालू खाते वालों का भी।

कमलनाथ ने कहा कि मुझे शिवराज का नहीं, किसानों का प्रमाण पत्र चाहिए। हम वचन देते हैं कि शुरुआत होगी। शिवराज जी आप ने 15 साल झूट बोला अब 15 , 20 दिन और बोल लीजिए। मैं पूछता हूं आप कौन से किसान के बेटे हैं। आपने किसानों के लिए क्या किया।