दतिया। मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना के तहत नगरपालिका में कुल 480 युवाओं को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराए जाने के लिए वर्तमान में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। लेकिन अब उनके सामने एक ओर परेशानी आ गई है। चार घंटे नगर पालिका में काम करने के बाद अब इन लोगों को चार घंटे की ट्रेनिंग भी लेनी होगी। इसके बाद ही उनके खाते में वेतन आएगा। इस योजना के तहत जो ट्रेनिंग सेंटर बनाए गए है। वह नगर पालिका से काफी दूर है। इसके चलते ऑटो से यह लोग ट्रेनिंग करने पहुंचते हैं, तो इनका आने जाने में ही 1500 रुपए खर्च हो रहे हैं। वहीं कई छात्रों ने नगर पालिका में शिकायत दर्ज कराई है, कि उनके ट्रेनिंग सेंटर नगर पालिका के नजदीक ही बनाए जाए ताकि उनका एक्स्ट्रा रुपए खर्च न हो।

उल्लेखनीय है, कि वर्तमान में मुख्यमंत्री स्वाभिमान योजना के तहत नगरपालिका में कुल 480 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसमें अभी तक उन्हें सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक काम करना होता था, लेकिन अब इस योजना के तहत युवाओं को विभिन्न् पदों के लिए ट्रेनिंग कराई जा रही है। इसके लिए नगरपालिका की ओर से अमन कॉलोनी ठंडी सड़क, रावतपुर कॉलेज और अल्टीमेट स्किल सेंटर बनाया गया है। यह सभी सेंटर नगर पालिका से करीब 3 से 4 किमी दूरी पर स्थित है। ऐसी स्थिति में इन युवाओं को पहले चार घंटे नौकरी नगर पालिका में करनी होगी और इसके बाद शेष चार घंटे इन्हें ट्रेनिंग करनी होगी। वहीं ट्रेनिंग सेंटर दूर होने की वजह से यहां पर जाने के लिए युवाओं के ऑटो से 40 रुपए प्रतिदिन आने जाने में खर्च होंगे। इस हिसाब से इस योजना के तहत 4 हजार रुपए मिलते है, लेकिन आने जाने में ही इनके 1500 रुपए खर्च हो रहे है। इसके चलते युवाओं ने इस संबंध में नगरपालिका में अपनी शिकायत दर्ज कराई जाकर उनसे मांग की है, कि वह सेंटर को नगर पालिका के समीप ही बनाए जाए

एक दिन में हो रहे 50 रुपए खर्च

ट्रेनिंग लेने वाले युवाओं ने बताया, कि पहले नगर पालिका आने-जाने के लिए 20 रुपए एक दिन के लगते थे, लेकिन अब हम लोगों को 10 रुपए किराया देकर नगरपालिका आना होगा और यहां पर काम करने के बाद ट्रेनिंग सेंटर पहुंचने के लिए एक तरफ से 20 रुपए खर्च और वापस लौटने के लिए फिर से 20 रुपए किराया लेकर अपने घर पहुंचना पड़ेगा। इसके चलते एक दिन में 30 रुपए अतिरिक्त खर्च हो रहे हैं। सेंटर नगरपालिका के पास ही कर दिए जाए तो यह खर्चा हमारी ओर से बचेगा।

यह चार ट्रेड जिसकी होगी ट्रेनिंग

मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना के तहत डाटा ऑपरेटर, सेल्फ एम्लॉयट टेलर, मशीन ऑपरेटर और मोबाइल फोन हार्डवेयर रिपेरिंग शामिल है। इसके लिए नगरपालिका में सोमवार को छात्रों की काउंसलिंग की गई है। इसमें सेल्फ एम्लॉयट टेलर के लिए 30 युवाओं का बैच अल्टीमेट ट्रेनिंग सेंटर में चालू कर दिया गया है, लेकि न यहां पर भी छात्र कम ही संख्या में पहुंचे रहे हैं।

छात्रों ने शिकायत की

यह बात सही है, कि जो सेंटर ट्रेनिंग के लिए बनाए गए है। वह काफी दूर है। इसमें खर्चा युवाओं का हो रहा है। इस संबंध में छात्रों ने शिकायत भी की है। जिसे हमारी ओर से भोपाल में बैठे अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। इस प्रकार के निर्णय वहां से आएंगे उसका पालन कि या जाएगा।

-राजन श्रीवास्तव, सिटी मैनेजर नगर पालिका दतिया

70 प्रतिशत हाजरी सेंटर पर जरुरी

छात्रों की ट्रेनिंग के लिए जो सेंटर बनाए गए है। वहां पर 70 प्रतिशत उपस्थति देना अनिवार्य है। 70 प्रतिशत से कम उपस्थति होगी तो उनकी सैलरी नहीं आएगी। इसके अलावा इन छात्रों को नगर पालिका में भी 30 प्रतिशत उपस्थति दर्ज करानी होगी। वहीं 100 प्रतिशत दोंनों जगहों पर उपस्थति दर्ज होने पर ही इनकी सेलरी खाते में डाली जाएगी।

50 रुपए खर्च होते हैं

पहले नगर पालिका में आकर चार घंटे काम करना है। इसके बाद ट्रेनिंग लेने के लिए जाना पड़ेगा। इसमें हमारी रोजाना 50 रुपए खर्च हो रहे है। ऐसी स्थिति में 1500 रुपए माह खर्च आएगा और महज 2500 रुपए में कै से खर्च चलेगा।

कुक्कु वैश्य, छात्र

सेंटर पास में हो जाए

सेंटर दूर बना दिए गए है। इसके लिए संबंधित अधिकारियों से शिकायत की है। यदि सेंटर पास में ही बना दिए जाए तो हमारे रुपए खर्च नहीं होंगे।

-विशाल कुशवाह, छात्र