उमरिया।

चंदिया नगर परिषद को मिनी स्मार्ट सिटी का दर्जा दिया जाएगा। इसके लिए कुल 21 करोड़ रुपए खर्च होंगे और कांग्रेस के 29 दिनों से चल रहे अनशन के बाद अब जिला प्रशासन ने इस काम को गति प्रदान कर दी है। इस बारे में जानकारी देते हुए मुख्य नगर पालिका अधिकारी यवशंत वर्मा ने नईदुनिया को बताया कि टाउन एण्ड डेवलपमेंट कंपनी ने मिनी स्मार्ट सिटी का सर्वे का कार्य पूरा कर लिया है और कलेक्टर माल सिंह की अध्यक्षता में बनी समिति के निर्णय अनुसार चंदिया के विकास के कार्य को किया जाएगा। संभावना व्यक्त की जा रही है कि इस साल के अंत तक चंदिया नगर स्मार्ट सिटी में परिवर्तित हो जाएगा।

29 दिन चला अनशन

पिछले साल की गई मुख्यमंत्री की घोषणाओं पर अमल करने के लिए कांग्रेस नेधरना प्रदर्शन प्रारंभ कर दिया था। 18 अगस्त से प्रारंभ हुआ प्रदर्शन 16 सितंबर को कलेक्टर माल सिंह के आश्वासन के बाद समाप्त किया गया। इस बारे में चर्चा करते हुए जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने कहा कि चंदिया नगर की जनता के साथ छल करने की कोशिश की गई थी लेकिन कांग्रेस ने सरकार को अपनी घोषणाओं पर अमल करने पर मजबूर कर दिया।

15 सितंबर से कांग्रेस के नेताओं ने भूख हड़ताल प्रारंभ कर दी थी। 28 दिन तक जब प्रदर्शन की तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया तब मजबूरी में कांग्रेस ने भूख हड़ताल का रास्ता अख्तियार किया। कलेक्टर माल सिंह ने भूख हड़ताल पर बैठे ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष व जिला उपाध्यक्ष मुकेश तिवारी, अयूब अली, सत्यदेव शर्मा, दीनबंधु साहू, रामरतन प्रजापति, वंशरूप शर्मा को जूस पिलाकर हड़ताल समाप्त करा दी। इस मौके पर पूर्व विधायक अजय सिंह, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेश शर्मा, महामंत्री ठाकुरदास सचदेवा, पीसीसी सदस्य राहुलदेव सिंह सहित कांग्रेस के अन्य सदस्य मौजूद थे। कलेक्टर माल सिंह ने होने वाले कार्यों के बारे में विस्तार से बताया वहीं मुख्य नगर पालिका अधिकारी ने मिनी स्मार्ट सिटी में होने वाले कार्यों के स्वरूप को स्पष्ट किया।