घुनघुटी।

घुनघुटी रेलवे स्टेशन में चंदिया चिरमिरी का स्टापेज दिलाए जाने की मांग फिर से उठने लगी है। लोगों ने इसके लिए आदिवासी क्षेत्र के लोगों का हवाला देते हुए कहा है कि इस ट्रेन के ठहराव से आदिवासी बाहूल्य अंचल को लाभ मिलेगा। वहीं लोगों ने घुनघुटी रेलवे स्टेशन में ओव्हर ब्रिज निर्माण की भी मांग उठाई है।

दोपहर में नहीं है ट्रेन

घुनघुटी के लोगों ने कहा है कि दोपहर के समय किसी भी प्रकार की पैसेंजर ट्रेन का स्टापेज यहां नहीं है, जिसके चलते लोगों को शहडोल, उमरिया सहित कई स्थानों पर आने-जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र के लोगों ने मांग उठाई है कि जल्द से जल्द चंदिया-चिरमिरी ट्रेन का स्टापेज घुनघुटी में किया जाए।

आदिवासी क्षेत्र पर ध्यान नहीं

क्षेत्रीय लोगों ने कहा है कि आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र होने के बाद भी जन प्रतिनिधि, विधायक सांसद इस मांग की तरफ ध्यान नहीं दे रहे हैं। लोगों का कहना है कि कोर्ट-कचहरी के काम से लोगों को दोपहर के समय बिरसिंहपुर, पाली, उमरिया, शहडोल सहित कई समय की यात्रा करनी पड़ती है। ट्रेन का स्टापेज न होने से मजबूरी में बस आदि का सहारा लेना पड़ता है। इससे पैसा और दोनों खर्च होते हैं। लोगों को टैक्सी से भी आना-जाना पड़ता है ऐसे में बहुत पैसा खर्च होता है।

नहीं बन पाया ओवर ब्रिज

लोगों का कहना है कि जबसे घुनघुटी रेलवे स्टेशन की स्थापना हुई है तब से यहां ओवर ब्रिज नहीं बन पाया है। इसके लिए कई बार आवाज उठाई गई, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया। ग्रामीणों ने बिलासपुर रेल मंडल के डीआरएम से भी इस बात को लेकर शिकायत की थी, लेकिन अभी तक न तो चंदिया-चिरमिरी ट्रेन का स्टापेज हुआ और न ही ओव्हर ब्रिज बनाया गया है।

प्लेटफार्म कराया जाए ऊंचा

लोगों ने यह भी मांग की है कि अप्रिय घटना से बचने के लिए प्लेट फार्म नम्बर दो एवं तीन नम्बर को ऊंचा कराया जिससे बुजुर्गो व बच्चों को दिक्कत न हो और दिक्कत से भी बचा जा सके। इस ओर तत्काल ध्यान देने की मांग की गई है।