नरसिंहपुर/तेंदूखेड़ा। गाडरवारा-तेंदूखेड़ा मार्ग पर भामा गांव के पास बुधवार की रात ग्रामीणों व पुलिस के बीच डंपर छोड़ने की बात पर विवाद हो गया, जिसमें दोनों पक्षों में हुई मारपीट में एक आरक्षक सहित दो ग्रामीण जख्मी हो गए वहीं डायल 100 वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गया।

तेंदूखेड़ा पुलिस ने मामले में भामा निवासी इंद्रजीत ठाकुर, सरदार लोधी व 8-10 अन्य लोगों के खिलाफ 9 धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। घायल ग्रामीणों को इलाज के लिए जिला अस्पताल से जबलपुर रेफर किया गया है।

तेंदूखेड़ा पुलिस ने बताया कि बुधवार की रात भामा में कुछ ग्रामीणों ने सड़क से निकल रहे डंपर रोक लिए थे। एक डंपर चालक की सूचना पर रात करीब साढ़े 10 बजे डायल 100 से आरक्षक नारायण मरावी, वीरेंद्र गिरी व चेतन तंतुवाय पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों से बातचीत की और ग्रामीणों द्वारा रोके गए डंपर को निकलवा दिया। इस बात से ग्रामीण पुलिसकर्मियों से ही विवाद करने लगे और उन्होंने गांव के अन्य लोगों को भी बुला लिया।

विवाद इतना बढ़ा कि दोनों पक्षों में मारपीट होने लगी और कुछ ग्रामीणों ने डायल 100 में तोड़फोड़ कर दी। झगड़े में भामा निवासी इंद्रजीत ठाकुर, सरदार लोधी को हाथ, पैर, सिर में गहरी चोट आई है वहीं आरक्षक चेतन तंतुवाय को भी हाथ में चोट है।

घायलों को रात में ही इलाज के लिए तेंदूखेड़ा अस्पताल लाया गया जहां से जिला अस्पताल और फिर गुरुवार को जबलपुर रेफर कर दिया गया। पुलिस ने मामले में आरक्षक चेतन की शिकायत पर इंद्रजीत ठाकुर, सरदार लोधी व 8-10 अन्य लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है।