नरसिंहपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिले की 17 वर्षीय एक किशोरी को शादी के लिए अशोकनगर के फुटेरा में बेचने के मामले में पुलिस ने एक दलाल सहित एक युवक को इटारसी से पकड़ा है। दोनों करीब एक माह से फरार चल रहे थे। इन्हें टीम ने इटारसी रेलवे स्टेशन पर उस वक्त दबोच लिया जब वह किसी ट्रेन से रोजाना की तरह गुटखा बेचने के लिए निकलने वाले थे।

बरमान चौकी क्षेत्र से 17 वर्षीय एक किशोरी बीते 1 जून को घर से नाराज होकर पैसेंजर ट्रेन से मुंबई में अभिनय करने भाग गई थी। वह मुंबई से इटारसी लौटी तो वहां ट्रेन में गुटखा बेचने वाले निक्की शर्मा, लक्ष्मी राजपूत, आसू खान ने दलाल गजराज गड़रिया के साथ मिलकर अशोकनगर जिले के फुटेरा निवासी घनश्याम शर्मा को 60 हजार रुपए में बेच दिया। लक्ष्मी और निक्की ने खुद को किशोरी का बहन-बहनोई होने की बात करते हुए 13 जून को अशोकनगर के एक मंदिर से किशोरी की घनश्याम से शादी भी करा दी थी। मामले में लक्ष्मी, निक्की और घनश्याम को गिरफ्तार करने के बाद फरार दो आरोपितों की पतासाजी में जुटी पुलिस ने इटारसी से आसू (25) पिता अयूब खान निवासी इटारसी व फुटेरा निवासी गजराज (42) पिता श्यामलाल गड़रिया को दबोच लिया। बरमान चौकी प्रभारी धर्मेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि दोनों आरोपितों को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

ट्रेनो में घूमकर काट रहे थे फरारी

एक माह से फरार आरोपितों की तलाशी के लिए पुलिस अधीक्षक डॉ. गुरकरण सिंह, एएसपी राजेश तिवारी के मार्गदर्शन में एसआई धर्मेन्द्र उपाध्याय, एएसआई मूलचंद यादव, आरक्षक रामानंद पांडे, अंकिता दुबे की टीम इटारसी पहुंची। इटारसी में टीम जब आसू और गजराज की पतासाजी करने जुटी थी इसी दौरान वह स्टेशन पर घूमते दिखे तो पुलिस ने घेराबंदी कर पकड़ लिया। पुलिस के अनुसार पकड़े गए आरोपितों ने कहा है कि वह ट्रेनों में ही गुटका-पाउच बेंचकर फरारी काट रहे थे और जैसे ही कोई पुलिस जवान दिखता तो इधर-उधर हो जाते थे।