नीमच। जावद में शुक्रवार को जुलूस पर पथराव के बाद रात 11 बजे लगा कर्फ्यू शनिवार सुबह भी जारी है। क्षेत्र के चप्‍पे-चप्‍पे पर पुलिस बल तैनात है। पूरी रात पुलिस संवेदनशील इलाकों की गश्‍त करती रही। डीआईजी एसबी सिंह स्थिति का जायजा लेने के लिए जावद पहुंचे। उधर जावद थाना प्रभारी को लाइन अटैच कर दिया गया है।

जुलूस पर पथराव में 6 पुलिसकर्मियों सहित 40 से अधिक लोग घायल हो गए थे। जिनमें से तीन की हालत गंभीर है। उपद्रव के दौरान 5 दुकानों में आगजनी भी की गई।

गौरतलब है कि हनुमान जयंती के उपलक्ष्य में शुक्रवार सुबह 10 बजे से परकोटा हनुमान मंदिर से शोभायात्रा प्रारंभ हुई थी। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल थे। शोभायात्रा लक्ष्मीनाथ चौक, माणक चौक होती हुई जैसे ही खुर्रा बाजार पहुंची, एक धर्मस्थल सहित घरों की छतों से अचानक उपद्रवियों ने ईंटें और पत्थर बरसाना शुरू कर दिए। जुलूस की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों पर भी जमकर पथराव हुआ।

घटना में 7 से अधिक पुलिसकर्मियों सहित करीब 40 लोग घायल हो गए। इन्हें जावद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और निजी चिकित्सालयों में ले जाया गया। गंभीर घायलों में से 2 को जिला चिकित्सालय एवं 1 को उदयपुर रैफर किया है। गंभीर घायलों में दो पुलिस उप निरीक्षक भी शामिल हैं।

जुलूस पर हुए अचानक पथराव के कारण भगदड़ मच गई। जुलूस के साथ एसडीओपी डॉ.इंद्रजीतसिंह बाकरवाल भी चल रहे थे, उन्होंने तत्काल अतिरिक्त पुलिस बल बुलवाया और शोभायात्रा में शामिल लोगों को घटनास्थल से तुरंत हटाया। इस बीच आसपास करीब 5 दुकानों में उपद्रवियों ने आग लगा दी। भीड़ के जाने के बाद शेष बचे पुलिसकर्मियों पर पथराव जारी था। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया।

सूचना पर जिले भर से पुलिस बल बुलाकर जावद में तैनात कर दिया गया। एसपी रूडोल्फ अल्वारेस ने जावद पहुंचकर घटनास्थल का मुआयना किया। तब तक नगर में धारा 144 लागू कर दी गई थी। खुर्रा चौक, अठाना दरवाजा क्षेत्र में सुरक्षा और कड़ी कर दी गई। एसपी श्री अल्वारेस ने बताया कि दोनों पक्षों के दो दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है।