- स्वास्थ्य विभाग द्वारा गंदे पानी में नहीं छिड़की गई टेमोफॉस दवा

- अभी तक 5 डेंगू पॉजिटिव मरीज आ चुके हैं सामने

डबरा/भितरवार। नईदुनिया प्रतिनिधि

स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण भितरवार में अभी तक डेंगू के 7 पॉजीटिव मरीजों की पहचान हो चुकी है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा अभी तक नगर के वार्डों में लार्वा विनिष्टिकर के लिए न तो सर्वे कराया गया है और न ही वार्डों में भरे पानी में दवा डलवाई गई है। जबकि स्वास्थ्य विभाग के नियम के अनुसार अगर किसी क्षेत्र में कोई डेंगू पॉजिटिव मरीज मिलता है तो उसके चारों ओर 100-100 मीटर के दायरे में सर्वे कराया जाता है और दवा डलवाई जाती है। लेकिन अधिकारियों की उदासीनता के कारण नगर में 7 डेंगू पॉजीटिव मरीजों की पहचान होने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग हरकत में नहीं आया है। इसके साथ ही डबरा में भी दो-तीन डेंगू पॉजीटिव मरीजों की पहचान हो चुकी है, लेकिन नगर पालिका द्वारा मच्छरों के विनिष्टिकरण के लिए फॉगिंग नहीं कराई गई है और न ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा चिन्हित क्षेत्रों में सफाई कराई जा रही है।

स्वच्छता अभियान के तहत नगर परिषद द्वारा विकासखंड में अभियान तो चलाए जा रहे हैं लेकिन जिन क्षेत्रों में पानी भरा हुआ है उसकी निकासी के लिए कोई उपाय नहीं किए गए हैं। डबरा में नगर पालिका की लापरवाही के चलते कई कॉलोनियों में न तो नाले-नालियों की सफाई कराई जा रही है और न ही कचरे के ढेरों को उठाया जा रहा है। जबकि क्षेत्रीय लोग कई बार नाले-नालियों की सफाई के लिए नगर पालिका अधिकारियों से मांग कर चुके हैं। गंदे पानी की निकासी नहीं होने व नियमित सफाई नहीं होने के कारण क्षेत्र में मच्छरों का प्रकोप बढ़ता रहा है। वहीं मच्छरों के प्रकोप को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा गंदे पानी में लार्वा विनिष्टिकरण के लिए दवा का छिड़काव नहीं कराया जा रहा है।

नहीं कराई गई कॉलोनियों में सफाई

मलेरिया की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग ने बारिश से पूर्व नगर पालिका को पत्र लिखकर सूचित कर दिया था कि मलेरिया विभाग द्वारा जिन क्षेत्रों को चिन्हित किया गया है वहां सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए, लेकिन नगर पालिका द्वारा अभी तक चिन्हित बस्तियों में सफाई नहीं कराई गई है। कॉलोनियों में पानी की निकासी की सुविधा नहीं होने के कारण अभी तक बारिश का पानी खाली प्लॉटों में भरा हुआ है। प्लॉटों में महीनों से भरे गंदे पानी के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है। मच्छरों के प्रकोप के चलते वर्तमान में अस्पतालों में मरीजों की भीड़ लगी है।

इन मरीजों की हुई पहचान

भितरवार में स्वास्थ्य विभाग द्वारा दवा का छिड़काव नहीं कराए जाने के कारण मलेरिया व डेंगू से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। भितरवार में अभी तक 7 डेंगू पॉजीटिव मरीजों की पहचान हो चुकी है। जिनमें मोहित पुत्र दिनेश अग्रवाल निवासी वार्ड 8 एक्सचेंज के पास, जय उपाध्याय पुत्र राधाबल्लभ उपाध्याय निवासी वार्ड 14 कारसदेव मोहल्ला, हेमंत यादव पुत्र परमाल सिंह यादव निवासी वार्ड 10 जोशी मोहल्ला, भूपेन्द्र ओझा पुत्र राकेश ओझा निवासी वार्ड 8, कृपाल सिंह पुत्र फेरन सिंह निवासी वार्ड 7 तहसील के पास, खेड़ा भितरवार निवासी शैतान सिंह 40 पुत्र रामचरण सिंह और शैतान के बेटे सूरज 17 को पिछले कई दिनों से बुखार आ रहा था इसके चलते उन्हें ग्वालियर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शनिवार को आई रिपोर्ट में दोनों को डेंगू निकला है। इसके साथ ही डबरा में भी दो तीन लोग डेंगू पॉजीटिव पाए गए हैं।

नहीं बांटी गई मच्छरदानी

नगरवासियों को मच्छरों से बचाने के लिए शासन द्वारा प्रत्येक नगरवासी को मच्छरदानी उपलब्ध कराए जाने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा सर्वे कराया गया था। सर्वे पूरा हुए काफी समय बीत गया है लेकिन लोगों को अभी मच्छरदानी नहीं मिल सकी हैं।

इनका कहना है-

मलेरिया की रोकथाम के लिए वार्डों में साफ-सफाई के लिए नगर पालिका और नगर परिषद को सूचित कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा गांव-गांव में सर्वे कराया जा रहा है और लार्वा विनिष्टिकरण के लिए दवा का छिड़काव कराया जा रहा है। दवा के छिड़काव के लिए मलेरिया विभाग को निर्देशित कर दिया गया है।

मृदुल सक्सेना, सीएमएचओ ग्वालियर

फोटो 00