सुधीर गोरे/राहुल वावीकर (भोपाल)। नईदुनिया-नवदुनिया फोरम में केंद्रीय सड़क परिवहन एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश में केन-बेतवा लिंक योजना काफी महत्वपूर्ण है। केंद्र सरकार ने इस योजना के लिए पूरा सहयोग किया है। उन्होंने कहा कि नार्थ ईस्ट में बांस से इथेनॉल बनेगा।

गडकरी के अनुसार मुंबई में बर्तन मांजने की राख चावल से ज्यादा महंगी है। मैंने यह तय किया है कि देश में इथेनॉल, बायो डीजल की गाड़ि‍यां लाएंगे। उन्होंने कहा कि देश की दो कंपनियों ने इथेनॉल से चलने वाली गाड़ि‍यां बनाई हैं। नागपुर में चलने वाली बसें मुंबई में चलने वाली बेस्ट बसों से कम कीमत पर इथेनॉल से चलती हैं। अगले 6 महीने में देश में इलेक्ट्रिक बाइक और अन्य वाहन आएंगे। मैं सड़क परिवहन मंत्री हूं और मैंने तय किया कि पेट्रोल व डीजल के बजाय इथेनॉल व इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दूंगा।

यह भी पढ़ें - गडकरी बोले- भोपाल की झील में उतरे हवाई जहाज

उन्‍होंने कहा कि हमारे देश का किसान पेट्रोल और डीजल की समस्या को सुलझा सकते हैं। किसान पराली जला देते हैं, जिससे इथेनॉल बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में दो एक्सप्रेस हाइवे बना रहे हैं, इंदौर से भोपाल और चंबल एक्सप्रेस हाइवे। देश में कुल 12 एक्सप्रेस हाईवे बनाने जा रहे हैं। हमने 14 लेन एक्सप्रेस हाइवे बनाया है दिल्ली में, जिसमें डेढ घंटे लगने वाला सफर का समय 15 मिनट का हो जाएगा। दिल्ली से मुंबई के लिए एक्सप्रेस हाईवे पर भी काम जारी है, इससे दूरी तो कम हो ही रही है, लेकिन खर्च भी बच रहा है। कल मैं कश्मीर जा रहा हूं, आप जानते हैं कि कारगिल की लड़ाई क्यों हुई। हम वहां लद्दाख में टनल बना रहे हैं, जिससे लद्दाख से ठंड में 6 महीने बंद रहने वाली कनेक्टिवी अब हमेशा चालू रहेगी।

मंत्री गडकरी ने कहा कि सोलर और विंड एनर्जी से बिजली बन रही है उसका उपयोग हो रहा है। इससे सस्ती बिजली उपलब्ध होगी। जल, जंगल, जमीन को ध्यान में रखते हुए हम काम कर रहे हैं, सोलर और विंड ही भविष्य है।

यह भी पढ़ें - किसान सुलझा सकता है पेट्रोल-डीजल संकट

उन्होंने कहा कि कृषि, इंडस्ट्री और सर्विस सेक्टर ही हमारे देश की अर्थव्यवस्था का आधार है। टेक्नोलॉजी में इनोवेशन इतनी तेजी से बदल रहा है कि काम करने के लिए बहुत कुछ है, हमारी सरकार ऐसे ही नवाचार को बढ़ावा दे रही है। वर्ष 2019 के अंत तक देश की विकास दर 8.5 फीसदी तक पहुंचने की उम्मीद है।

मंत्री गडकरी ने कहा कि हम विकास को राजनीति के साथ नहीं मिलाते, मैंने दूसरी पार्टी वाले मुख्यमंत्रियों का भी हर कहना माना। हम प्रधानमंत्री सिंचाई योजना में एक लाख करोड़ रुपए के काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कृषि का पैटर्न बदलना होगा, हम एग्रीकल्चर एक्सपोर्ट बढ़ाने पर काम कर रहे है। इंदौर से इंडस्ट्रियल गुड्स एक्सपोर्ट होते हैं इसलिए हमारा जहाजरानी विभाग इंदौर से मनमाड रेल बना रहा है, आश्चर्य है कि ये काम रेलवे नहीं हमारा विभाग कर रहा है और इसके लिए हम 6000 करोड़ खर्च कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि देश मे पैसे की कमी नहीं है, कमी है नियोजन की। प्रॉपर प्लांनिंग की जरूरत है और हमारी सरकार इसी पर काम कर रही है। नेपा पेपर मिल के लिए होशंगाबाद में बांस लगाए जाएंगे। पहली बार हमने बांस को ग्रास माना, जिससे किसान अब बांस की खेती कर कमाई बढ़ा सकते हैं। हम चार हजार अगरबत्ती की काड़ि‍यां इंपोर्ट कर रहे हैं। हम चाहते हैं कि देश में से ज्यादा से ज्यादा सामान निर्यात हो और आयात कम हो।

पढ़ें सम्पूर्ण कवरेज

नईदुनिया फोरम : न्यू इंडिया में सबसे बड़ा योगदान मध्यप्रदेश देगा - सीएम शिवराज सिंह

नईदुनिया फोरम : असंतुलित उर्वरकों से बीमार हो रही धरती - राधामोहन सिंह

नईदुनिया फोरम : ग्रामीण विकास मंत्री ने स्पष्ट किया गांव-गरीबों के लिए केंद्र सरकार का एजेंडा

नईदुनिया फोरम : देश में इथेनॉल और इलेक्ट्रिक गाड़ि‍यां लाएंगे - नितिन गडकरी

नईदुनिया फोरम में न्यू इंडिया पर हुई चर्चा, केंद्रीय मंत्रियों ने कही ये खास बातें

नईदुनिया फोरम: देखें उद्घाटन से समापन तक की तस्वीरें

ब्लॉग नईदुनिया फोरम