भोपाल नवदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम द्वारा लालघाटी क्षेत्र में निगम से लायसेंस के बिना ही दुकान संचालित की जा रही थी। सोमवार को निगम के स्वास्थ्य अमले ने दुकानों में जाकर लायसेंस की जांच की तो 25 दुकानें बिना लायसेंस के ही चलती हुई पाई गईं। स्वास्थ्य अधिकारी राकेश शर्मा ने बताया कि इन दुकानदारों के विरुद्घ मप्र नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 की धारा 366 के तहत चालानी कार्रवाई की गई है। उनके प्रकरण विशेष न्यायाधीश म्यूनिसिपल मजिस्टे्रट जिला न्यायालय भोपाल के समक्ष प्रस्तुत किए जाएंगे।

जांच के दौरान शर्मा एंड विष्णु फास्ट फूड, अमित केक शॉप, गिफ्ट हाउस, बेब्स स्नेक फास्ट फूड, इशीता फोटो कॉपी, हार्डवेयर शॉप, सुपर शेक कॉपी, पूजा रेस्टोरेंट, प्रेम हेयर सैलून आदि के खिलाफ कार्रवाई हुई।

सभी दुकानों की कटेगरी के हिसाब से सालाना अलग-अलग शुल्क जमा कर निगम से लायसेंस जारी होता है। लेकिन लोग पैसे बचाने के लिए लायसेंस नहीं लेते। जिनके प्रकरण कोर्ट में भेजे जाएंगे, उन पर कोर्ट 10 से 20 गुना तक पैनाल्टी लगाता है। इसलिए बेहतर है कि लोग खुद ही लायसेंस बनवाएं। निगम प्रशासन ने निगम सीमा में व्यवसाय करने वाले दुकानदारों से अपील की है कि वह अपने दुकानों के लायसेंस अपने संबंधित जोन कार्यालय से अनिवार्य रूप से बनवाएं। अन्यथा कार्रवाई की जाएगी।