इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। अक्षत अपहरणकांड में पुलिस को अहम सुराग हाथ लगा है। बच्चे को ले जाने में ललितपुर का सटोरिया शामिल था। वह बाणगंगा क्षेत्र में ही रहता है। पुलिस ने अपहर्ताओं की बाइक बरामद कर ली है। इनसे जुड़े दो लोगों को भी हिरासत में लिया गया है।

हीरानगर थाना क्षेत्र स्थित प्राइम सिटी निवासी किराना व्यवसायी रोहित जैन के 6 वर्षीय बेटे अक्षत जैन के अपहरण में पुलिस ने सभी आरोपितों को चिन्हित कर लिया है। मास्टरमाइंड को सिम व मोबाइल उपलब्ध करवाने वाले अंकित झा ने पुलिस को बताया कि बच्चे को आवाज देकर बुलाने और मुंह दबाकर बाइक पर बैठाने वाला ललितपुर का विराट विश्वकर्मा है। वह सट्टे के कारोबार में भी लिप्त रहा है। कुछ दिनों से बाणगंगा थाना क्षेत्र में रह रहा है। पुलिस बुधवार को उसके घर पहुंची और परिजन को हिरासत में ले लिया। उस बाइक को भी बरामद कर लिया, जिसका अपहरण में उपयोग हुआ था।

रास्ते में बदले बाइक चालक, बच्चे को दूसरी गाड़ी पर बैठाया

उधर, अपहृत बच्चे ने भी पुलिस को चौंकाने वाली जानकारी दी है। उसने कहा कि जिस बाइक से अपहरण किया उसके पीछे दूसरी बाइक भी चल रही थी। कुछ समय बाद बाइक चालक बदले और उसे भी दूसरी बाइक पर बैठा दिया। पुलिस को अभी तक तीन बदमाशों की पूरी जानकारी मिल चुकी है। टीम सागर, महरौली और ललितपुर में छापे मार रही है।

लूट-चोरी के मोबाइल से मांगी फिरौती

पुलिस के मुताबिक, बदमाश चोरी और लूट में भी लिप्त हैं। संदेही संतोष विश्वकर्मा लूटपाट करता है। वह ट्रेन में भी चोरी करता है। उसके पास से पांच मोबाइल मिले हैं। छात्र अंकित भी लूट करने में शामिल है। उसने पूछताछ में बताया कि कुछ समय पूर्व विराट ने कहा था कि रुपए की सख्त जरूरत है। उसने ही चोरी का फोन मांगा था।