बालाघाट। पुलिस नक्सलियों से निपटने, जंगलों में नक्सली नेटवर्क ब्रेक करने बॉर्डर कैंप बढ़ाने के साथ बारिश में ज्वाइंट ऑपरेशन तेज करेगी। इसके लिए मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ व महाराष्ट्र में जंगलों में पुलिस भी नक्सलियों की तर्ज पर अपनी पैठ जमाएगी।

शुक्रवार को किरनापुर के बड़गांव में स्थित कोबरा बटालियन के कैंप में गोपनीय बैठक में एडीजी नक्सल ऑपरेशन संजीव कुमार की मौजूदगी में अहम निर्णय लिए गए हैं। उन्होंने मप्र के बालाघाट, मंडला, डिंडौरी समेत इनसे लगे नक्सल प्रभावित महाराष्ट व छग के जिलों के पुलिस अधिकारियों को खास टिप्स दिए।

नक्सली तीनों राज्यों की अंातरिक सुरक्षा पर खतरा बने हुए हैं। इनसे निपटने आंतरिक सुरक्षा को लेकर भी बैठक में चर्चा हुई। बैठक में तीनों राज्यों के आला पुलिस अफसर व 6 जिलों के पुलिस अधीक्षक मौजूद रहे। बैठक दोपहर 12.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक 5 घंटे चली।

एडीजी नक्सल ऑपरेशन संजीव कुमार ने बैठक में तीनों राज्यों में 3 माह के नक्सली मूवमेंट की समीक्षा की है। उन्होंने बारिश शुरू होने के साथ ही बढ़ने वाली नक्सली आहट को गंभीर बताया और तीनों राज्यों की पुलिस को बॉर्डर में कसावट रखने और नक्सली नेटवर्क तोड़ने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने नक्सली नेटवर्क ब्रेक करने के साथ ही उनके ठिकानों को मिटाने के लिए कहा है।

मध्य प्रदेश फिर बना नक्सलियों का टारगेट

बारिश थमते ही तीन राज्यों में फिर नक्सली मूवमेंट बढ़ने के संकेत मिल रहे हैं। मध्य प्रदेश- छत्तीसगढ़ व महाराष्ट्र के सीमावर्ती इलाकों में सक्रिय विस्तार दलम से बॉर्डर एरिया पर नक्सली अपने ठिकाने बढ़ा रहे हैं। छत्तीसगढ़ के कबीरधाम में नया दलम विस्तार करने के बाद जहां नक्सली मध्य प्रदेश को टारगेट कर रहे हैं।

वहीं बॉर्डर एरिया में कुछ नए ठिकाने बने हैं। एक बार फिर यहां नक्सली अपनी जमीन तलाशते नजर आ रहें हैं। नक्सली हलचल बढ़ने से तीनों राज्यों की आंतरिक सुरक्षा पर खतरा बढ़ा है, जिससे निपटने के लिए ज्वाइंट ऑपरेशन चलाने खास रणनीति बनाई गई है।

सीमा लांघकर सर्चिंग से बढ़ा दबाव

तीनों राज्यों की पुलिस सीमा लांघकर सर्चिंग कर सकेगी। अब बॉर्डर सर्चिंग में सीमा कोई बंधन नहीं है। जंगलों में नक्सलियों की खाक छान रही पुलिस अब मध्य प्रदेश के जंगलों से महाराष्ट्र व छग की सीमा में घुसकर भ्ाी सर्चिंग करने की आजादी से बॉर्डर में दबाव बढ़ा है।

ये अधिकारी बैठक में रहे

बैठक में एडीजी नक्सल ऑपरेशन संजीव कुमार, आईजी बालाघाट केपी वैंकटेश्वर, डीआईजी इरशाद वली के अलावा बालाघाट, मंडला, डिंडौरी, कबीरधाम, राजनांदगांव, गोंदिया के पुलिस अधीक्षक समेत बालाघाट एएसपी नक्सल ऑपरेशन संदेश जैन व अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।