रायसेन। रायसेन स्थित शासकीय पिछड़ा वर्ग बालक छात्रावास में शुक्रवार को चौकीदार ने खासा हंगामा किया। उसने छात्रों को एक कमरे में बंद कर दिया। फिर खुद निर्वस्त्र होकर परिसर में ही फांसी लगाने का प्रयास किया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे फांसी लगाने से बचाया और बच्चों को बाहर निकाला। परिजन उसकी मानसिक स्थिति खराब होना बता रहे हैं।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को दोपहर करीब 12 बजे छात्रावास का चौकीदार यशंवत राय अचानक अजीब हरकतें करने लगा। उसने वहां रहने वाले छात्रों को कमरे में बंद दिया। फिर छात्रावास के गेट में ताला लगा लिया। परिसर में ही निर्वस्त्र होकर रस्सी से फांसी लगाने का प्रयास करने लगा। यह देखकर वहां मौजूद शिक्षक टीएस विश्वकर्मा ने छात्रावास के अधीक्षक मनोज कुमार दीक्षित और पुलिस को सूचना दी।

डायल-100 टीम मौके पर पहुंची। टीम में शामिल आरक्षक छात्रावास की छत पर चढ़कर परिसर में कूदा और चौकीदार को फांसी लगाने से बचाया, लेकिन यशंवत पुलिस आरक्षक पर झूम गया। यह देखकर अन्य पुलिसकर्मी छात्रावास के गेट का ताला पत्थर से तोड़कर अंदर घुसे और बड़ी मुश्किल से चौकीदार को काबू में किया। उसके हाथ बांधकर कपड़े पहनाए। उसके परिजनों को मौके पर बुलाकर उनके सुपुर्द किया।

छात्रावास प्रभारी मनोज कुमार दीक्षित ने बताया कि छात्रावास में कक्षा 9 से 12 तक के 22 छात्र रहते हैं। चौकीदार यशंवत राय सीधा सादा है, इसलिए करीब 6 माह पहले उसे यहां अस्थायी रूप से रखा गया था। शुक्रवार को उसने अचानक यह हंगामा किया। उसके परिजनों का कहना है कि यशंवत मानसिक रूप से बीमार है। उसका इलाज भी चल रहा है।