रतलाम। जिले को खुले में शौच मुक्त करने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों से लेकर ग्राम पंचायतों द्वारा नित नए जतन किए जा रहे हैं। ऐसे ही मामले में मंगलवार को ग्राम पंचायत बंजली में शौचालय बनाने के लिए सचिव और सहायक सचिव ने हितग्राही के घर के बाहर बैठकर सद्बुद्धि के लिए हवन किया और ढोल भी बजवाया।

27 जनवरी को जिला पंचायत सीईओ सोमेश मिश्रा ने शौचालय व पीएम आवास योजना के निर्माण कार्य में पिछड़ने पर रतलाम जनपद की कुछ ग्राम पंचायतों की समीक्षा की थी। लापरवाही सामने आने पर 17 सचिवों को निलंबित और 4 सहायक सचिवों की सेवा समाप्ति के आदेश दिए थे। हालांकि सभी को एक सप्ताह का समय देकर कार्य में प्रगति लाने पर बहाली की शर्त तय की गई। निलंबित सचिवों में ग्राम पंचायत बंजली के सचिव शाकिर अली भी शामिल थे। यहां 155 शौचालय का टारगेट था। कार्रवाई के बाद से लक्ष्य में से केवल 2 शौचालयों का निर्माण बचा है।

इनमें से एक हितग्राही रामलाल पिता कारूजी का खेत पर घर है। वह कई बार समझाने पर शौचालय बनाने के लिए तैयार नहीं हुआ तो सचिव व सहायक सचिव लोकेश जाट, पंच पुत्र पन्नाालाल ने मंगलवार को खेत पर बने घर के बाहर हितग्राही को सद्बुद्धि देने के लिए हवन कर कुंड में आहुतियां दीं और ढोल बजवाया। सुबह हवन हुआ शाम को हितग्राही ने शौचालय बनाने के लिए सामग्री डलवा दी। ग्राम पंचायत में 3200 परिवार निवास करते हैं।