रतलाम। लंबे इंतजार के बाद आखिरकार बुधवार शाम 7 बजे नई डेमू रतलाम से लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन के लिए रवाना हुई। प्लेटफॉर्म पर मौजूद कर्मचारी संगठन, राजनीतिक दल पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी कर ट्रेन को रवाना किया। इस दौरान चालक का हार पहनाकर स्वागत किया व मिठाई बांटी गई। हालांकि रेल मंडल का कोई भी अधिकारी मौके पर मौजूद नहीं रहा। ट्रेन में सवार यात्रियों में से कई यात्री को इस बात की शिकायत थी कि ट्रेन सुबह इंदौर की बजाय रतलाम से चलाई जानी थी।

बता दें कि रतलाम से लक्ष्मीबाई नगर के बीच नई डेमू चलाने की घोषणा रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने 23 अगस्त को की थी। करीब डेढ़ महीने बाद घोषणा पर अमल हुआ। बुधवार को ट्रेन संख्या 79311 डेमू फास्ट पैसेंजर रतलाम से ठीक 7 बजे रवाना हुई। ट्रेन के लिए रतलाम से विभिन्न स्टेशनों के करीब 125 टिकटों की बिक्री हुई। रतलाम से ठीक सात बजे इसे रवाना किया गया। पहले फैरे में चालक राजू एस बैरागी व गार्ड एसएन शर्मा ट्रेन लेकर रवाना हुए। ट्रेन स्टाफ में सीएलआई रामनिवास यादव भी शामिल रहे। ट्रेन लक्ष्मीबाई नगर से सुबह 6.45 बजे रतलाम के लिए रवाना होगी।

विधायक सहित कार्यकर्ता ने दिखाई झंडी

ट्रेन रवाना होने से पहले प्लेटफॉर्म नंबर एक पर विधायक चेतन्य काश्यप पार्र्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे। ट्रेन को हरी झंडी देकर रवाना किया गया।

यात्रियों ने यह कहा

रेलवे ने रतलाम-लक्ष्मीबाईनगर के बीच एक अतिरिक्त ट्रेन चलाकर यात्रियों को सुविधा है। यह एक अच्छी सौगात है। इसे सुबह रतलाम से चलाना था। हालांकि इंदौर से सुबह चलाना भी उचित है।

-ममता भंडारी, निवासी चांदनी चौक, रतलाम

ट्रेन को रतलाम से चलाते हुए यात्रियों को ट्रेन की अतिरिक्त सुविधा दी जानी थी। कोई भी व्यक्ति इंदौर में काम पूरा कर शाम को रतलाम लौट सकता था।

-सुनील राठौर, निवासी प्रतापनगर, रतलाम

ट्रेन को रतलाम से सुबह 8.30 बजे चलाना था। इससे यहां के यात्रियों को सुविधा मिलती। रतलाम से इंदौर जाने के विकल्प कम है। इसकी भरपाई की जा सकती थी।

-मृदुला जोशी, निवासी रतलाम

रेल राज्यमंत्री ने ट्रेन को चलाने की घोषणा रतलाम के यात्रियों की सुविधा के लिए की थी। लेकिन इसे इंदौर से चलवाया जा रहा है। यह फैसला कुछ हद तक ठीक नहीं है।

-नरेंद्रसिंह, निवासी बाजना बस स्टैंड क्षेत्र रतलाम

'डीआरएम साहब! रात में इंदौर तक कैसे जाएंगे'

रतलाम। शहर से लक्ष्मीबाई नगर के बीच नई डेमू तो शुरू हो गई। मगर इसके समय को लेकर प्रश्न उठने लगे हैं। दरअसल शाम 7 बजे रतलाम से चलने वाली डेमू रात 9.40 बजे लक्ष्मीबाई नगर पहुंचेगी। ऐसे में यात्रियों को इंदौर जाने के लिए मशक्कत करना पड़ेगी। मंगलवार को डीआरएम मनोज शर्मा की मौजूदगी में मंडल रेल उपभोक्ता सलाहकार समिति के सदस्यों ने यह सवाल भी उठाया। सदस्यों ने अपने क्षेत्र के स्टेशनों पर यात्री सुविधा की कई मांगें उठाई। डीआरएम ने भी मांगों के निराकरण का आश्वासन दिया।

बैठक में समिति सदस्यों ने सुमित्रा महाजन द्वारा नामित प्रतिनिधि जगमोहन वर्मा को पश्चिम क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति मुंबई का सदस्य चुना गया। बैठक में सीनियर डीसीएम केके सिन्हा, सीनियर डीओएम पवन कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। बता दें कि नई समिति के गठन के बाद रेल प्रशासन द्वारा आयोजित यह तीसरी बैठक रही। इसमें दिलीप पाटनी रतलाम, आनंद जैन इंदौर, महेंद्र गादिया इंदौर, शेख मोहम्मद साबिर दाहोद, रत्नदीप मोयदे महेश्वर, कांतिलाल छाजेड़ रतलाम, अजय विश्नाई बांगरोद मौजूद रहे।

बैठक में मुद्दे उठे

दिलीप पाटनी-नई डेमू चलाने के बाद लक्ष्मीबाई नगर से सड़क मार्ग द्वारा इंदौर पहुंचने के लिए वाहन का इंतजाम किया जाना चाहिए। इसके संबंध में रेलवे वहां के प्रशासनिक अधिकारियों से चर्चा करें। पुणे-इंदौर के लिए पुणे से 6 व 7 नवंबर व इंदौर से 13 व 15 नवंबर को 400 करीब वेटिंग लिस्ट है। इसे देखते स्पेशल ट्रेन चलाई जाए।

डीआरएम : रात में लक्ष्मीबाई नगर से इंदौर तक यात्रियों को पहुंचाने के लिए इंदौर प्रशासन से चर्चा करेंगे। इंदौर-पुणे के दबाव को देखते स्टेशल ट्रेन चलाने के लिए मुख्यालय पत्र व्यवहार किया है।

महेंद्र गादिया : उज्जैन स्टेशन पर सिंहस्थ के दौरान एस्केलेटर नहीं लगाए। इससे यात्री दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं।

डीआरएम : उज्जैन में एस्केलेटर सिंहस्थ के बाद ही लगाने की योजना है।

जगमोहन वर्मा : बालोदा टाकुन स्टेशन पर यात्री सुविधा की कमी है। वहां प्राथमिक सुविधा मुहैया हो।

डीआरएम : इसके लिए संबंधित अधिकारी को निर्देश देकर सुविधा की योजना बनाई जाएगी।

राजदीप परवाल : नीमच में सामान्य श्रेणी के टिकटों की बिक्री अधिक है। लेकिन वहां इस श्रेणी के टिकट के लिए एक ही विंडो है।

डीआरएम : इसके संबंध में जल्दी ही जानकारी लेते हुए अतिरिक्त विंडो के विकल्प खोजे जाएंगे।

कांतिलाल छाजेड़ : राधाकृष्ण नगर-नौगांवा स्टेशन लिंक मार्ग के तीसरे सर्वे में बदलाव किया जाए। इस मार्ग में मंदिर व उपजाऊ जमीन आ रहे हैं।

डीआरएम : इसके बारे में मामले में जानकारी ली जाएगी। इसके बाद इसके बारे में कहा जा सकेगा।