Naidunia
    Sunday, December 17, 2017
    PreviousNext

    मंडी अध्यक्ष के पति के बयान पर व्यापारियों ने जताया आक्रोश

    Published: Fri, 13 Oct 2017 12:02 AM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 12:02 AM (IST)
    By: Editorial Team

    जावरा। नईदुनिया न्यूज

    अरनियापीथा नवीन मंडी में गुरूवार को व्यापारियों ने समय पर नीलाम कार्य प्रारंभ नहीं किया। व्यापारियों का कहना था कि एक समाचार पत्र में मंडी अध्यक्ष के पति द्वारा जारी बयान में एक मंडी व्यापारी पर जुर्माना करने का समाचार जो प्रकाशित हुआ है, वह निरर्थक है। उन्हें ऐसा बयान जारी करने का अधिकार भी नहीं है। इस पर व्यापारियों ने एकजुट होकर मंडी कार्यालय के बाहर नाराजगी व्यक्त की। समय पर मंडी में नीलाम कार्य प्रारंभ नहीं होने पर किसानों ने मंडी कार्यालय के बाहर एकत्रित होकर नीलाम प्रारंभ कराने की बात कही। मंडी प्रशासन ने किसानों की बात सुनी। उसके बाद व्यापारियों से चर्चा की। जिसमें मंडी सचिव ओपी खेड़े ने बताया कि मंडी के अभिलेखों में किसी व्यापारी पर जुर्माना करने का प्रकरण नहीं पाया गया है। इस पर व्यापारियों ने कहा कि इससे व्यापारियों की छवि पर प्रतिकुल असर पड़ा है। मंडी सचिव की समझाइश के बाद नीलाम कार्य प्रारंभ हुआ।

    अरनियापीथा नवीन मंडी में गुरूवार को सुबह व्यापारी वर्ग पहुंचे। जहां मंडी व्यापारी महेंद्र गोखरू ने बताया कि फर्म शिवानी स्पाईसेस का चैक ना तो बाउंस हुआ है और ना ही मंडी प्रशासन ने मुझ पर कोई जुर्माना किया है। समाचार पत्र में जारी बयान मंडी अध्यक्ष पार्वतीबाई पाटीदार के पति राधेश्याम पाटीदार के नाम से प्रकाशित हुआ है। मंडी अध्यक्ष के पति ने किस अधिकार से ऐसा बयान जारी किया। इस पर व्यापारियों में आक्रोश फेल गया और उन्होंने मंडी कार्यालय के बाहर एकत्रित होकर नाराजगी जताई। इसकी खबर मिलते ही मंडी सचिव खेड़े, मंडी अध्यक्ष पाटीदार एवं संचालक मंडल के सदस्य सत्यनारायण पाटीदार मंडी कार्यालय पर पहुंचे। मंडी में समय पर नीलाम नहीं होने से किसान परेशान हो गए। किसानों का झुंड मंडी कार्यालय पर पहुंचा। जहां उन्होंने उपज की नीलामी शुरू करवाने की मांग की। इस पर मंडी सचिव खेड़े ने व्यापारियों को कार्यालय पर बुलाकर चर्चा की। व्यापारियों का कहना था कि किस व्यापारी पर जुर्माना किया गया है। इस पर मंडी सचिव ने बताया कि किसी भी व्यापारी पर मंडी अभिलेख में चैक की राशि का भुगतान किसान को नहीं मिलने पर जुर्माना नहीं हुआ है। मंडी सचिव की समझाइश के बाद व्यापारी वर्ग नीलामी के लिए तैयार हुए। दोपहर करीब 2 बजे मंडी का नीलाम कार्य प्रारंभ हुआ।

    और जानें :  # mandsaur newratlam news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें