वित्तीय वर्ष की समाप्ति से पहले फरवरी में नए साल का बजट तैयार करने की मशक्कत शुरू हो जाती है। इसके साथ ही लोगों की उम्मीदें भी हिलोरें मारने लगती हैं कि इस बजट में उनके शहर को क्या मिलने वाला है। विकास की रफ्तार पकड़ चुके रीवा जिले के लोगों में भी इन दिनों नए बजट की सौगातों को लेकर कशमकश तेज हो गई है। लोगों ने नए रेल बजट में रीवा से मुंबई और अमरावती के लिए सीधी ट्रेनों की सौगात मिलने की उम्मीद लगाई है। इस मांग से केंद्र सरकार को अवगत कराने जिले भर से लगातार एसएमएस भी भेजे जा रहे हैं। इसके अलावा लोगों ने रीवा से नागपुर के लिए घोषित गई ट्रेन को यात्रियों की सुविधा अनुसार चलाए जाने की मांग भी रेल मंत्री से की है।

सांसद ने लिखा पत्र

नए बजट में रीवा को इस बार कौन सी ट्रेन मिलेगी इसे लेकर विंध्य क्षेत्र के लोगों की निगाहें अब रेल मंत्रालय और जनप्रतिनिधियों पर टिक गईं हैं। रीवा से दो नई ट्रेनें चलाए जाने की मांग उठने के बाद इस संबंध में सांसद ने रेल मंत्री को पत्र लिखा है। साथ ही गत वर्ष के बजट में घोषित नागपुर-रीवा ट्रेन को यात्रियों की सुविधा अनुसार चलाए जाने के लिए भी सांसद ने पत्र लिखा है।

10 हजार से ज्यादा लोगों ने किया एसएमएस

रेल मंत्रालय ने जनवरी माह में एसएमएस के जरिए लोगों से सुझाव मांगे थे। जिसमें जिले के लोगों ने सबसे ज्यादा रीवा से मुम्बई ट्रेन चलाने की मांग एसएमएस द्वारा की है। जिले के लोगों ने रेल मंत्रालय से उम्मीद जताई कि मुम्बई एवं अमरावती ट्रेन रीवा को सौगात के रूप में इस बजट में मिलेगी। यहां से काफी संख्या में लोग मुम्बई जाते-आते हैं।

पांच साल में 4 ट्रेनें

बीते पांच सालों पर नजर दौड़ाई जाए तो रीवा को 4 ट्रेनों की सौगात मिली है। जिनमें रीवा-राजकोट, रीवा-इंदौर, रीवा-चिरमिरी एवं रीवा-नागपुर ट्रेनें शामिल हैं। तीन ट्रेनें पूर्व सांसद देवराज पटेल के कार्यकाल में घोषित की गईं थीं। जबकि रीवा-नागपुर ट्रेन की घोषणा सांसद जनार्दन मिश्रा के कार्यकाल में की गई है।

----------

रीवा-मुम्बई और अमरावती ट्रेन चलाए जाने व नागपुर-रीवा ट्रेन का समय यात्रियों की सुविधा के अनुसार किए जाने के लिए रेल मंत्री को पत्र लिखा है। उम्मीद है कि अमरावती ट्रेन की सौगात इस रेल बजट में मिल जाएगी।

जनार्दन मिश्रा, सांसद, रीवा

रीवा से मुम्बई ट्रेन चलाए जाने के लिए पूरे विंध्य क्षेत्र से लगभग 10 हजार एसएमएस रेल मंत्रालय को किए गए हैं। उक्त ट्रेन की सबसे ज्यादा आवश्यकता है। नए बजट में ट्रेन की मांग और जोरों से की जाएगी।

प्रकाश शिवनानी, संयोजक रेल यात्री संघ