रीवा। वर्ष 2008 में यूपीए सरकार एक बढ़िया अवसर चूक गई थी, जिसे हम 26/11 मुंबई हमले के रूप में जानते हैं। उस हमले में कुल 166 लोगों की मौत हुई थी। लेकिन मोदी सरकार ने उरी और पुलवामा की घटना को न केवल कैश कराया बल्कि सर्जिकल स्ट्राइक एवं व एयर स्ट्राइक के जरिए घर में घुसकर मारने का काम किया। केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार ही बेहतर निर्णय ले सकती है। यह बात केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को रीवा में बुद्धिजीवी वर्ग के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी व नरेंद्र मोदी दोनों में अंतर है। गठबंधन की सरकार के कारण वाजपेयीजी कठोर निर्णय नहीं ले पाते थे, लेकिन 2014 में जनता द्वारा दिए गए जनादेश के बाद मोदीजी ने ऐतिहासिक निर्णय लिए। इस अवसर पर उन्होंने मोदी सरकार की न केवल उपलब्धियां गिनाईं बल्कि मंच पर उपस्थित रीवा सांसद जनार्दन मिश्रा की ब्रांडिंग भी करती नजर आईं। उन्होंने जिला सहित आसपास के जिलों में चल रहे काम के पीछे जनार्दन मिश्रा की मेहनत को बताया।

बताती रहीं आंकड़े

अल्प प्रवास के दौरान विदेश मंत्री सुषमा स्वराज केंद्र में भाजपा सरकार बनाने को लेकर अपना तर्क देती रहीं। उन्होंने आंकड़ों के माध्यम से यह बताने की कोशिश की की मोदी सरकार सबसे बेहतर है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद, विकासवाद एवं जनकल्याण के मुद्दे पर भाजपा सरकार खरी उतरी। उन्होंने कहा कि 2014 में वादों पर आप ने वोट दिया था, 2019 में हमारे काम को देख कर भाजपा को वोट करें।

पाकिस्तान को किया अलग-थलग

मार्च में इस्लामिक देशों के संगठन आईओसी द्वारा अपने 50 वर्ष पूर्ण होने पर स्वर्ण जयंती का आयोजन किया था। जिसमें उन्होंने भारत को निमंत्रण दिया था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के विरोध करने पर भी संगठन ने साफ कर दिया था कि पाकिस्तान आए चाहे ना आए, लेकिन भारत के निमंत्रण को वह रोकने वाला नहीं है। साथ ही एयर स्ट्राइक के बाद हमने न केवल दूसरे देशों में बल्कि इस्लामिक देशों से पाकिस्तान को अलग-थलग कर दिया है।