रीवा। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्रदेश के इकलौते सैनिक स्कूल का वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह कार्यक्रम के दौरान स्कूल के कैडेट्स ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति देकर यह साफ कर दिया कि स्कूल में पढ़ने वाले कैडेट्स पढ़ाई और अनुशासन के साथ-साथ कला और संस्कृत पर भी अपनी अच्छी रूचि रखते हैं। छात्रों ने देशभक्ति और सामाजिकता से ओतप्रोत कार्यक्रमों की प्रस्तुति कार्यक्रम के दौरान न सिर्फ दिए हैं बल्कि नाट्य मंचन में उन्होंने किसान की समस्या बेटी है तो कल है, बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ सहित अन्य कार्यक्रमों की प्रस्तुति देकर उपस्थित लोगों को मंत्र मुग्ध कर दिया। स्कूल के मानकेशा सभागार में आयोजित रंगारंग कार्यक्रम के दौरान स्कूल के प्राचार्य सहित अन्य लोग उपस्थित रहे और उन्होंने छात्रों की प्रस्तुति प्रशंसा किए।

इस स्कूल से मिली शिक्षा ने दिया मुकाम

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे वाईस एडमिरल अतुल कुमार जैन ने अपना उद्बोधन देते हुए कहा कि आज जिस मुकाम को उन्होंने हासिल किया है यह सैनिक स्कूल रीवा से मिली हुई शिक्षा की बदौलत ही संभव हो पाई है। उन्होंने सैनिक स्कूल में अपने कार्यकाल को याद करते हुए कहा कि यह स्कूल अच्छी शिक्षा देने के साथ ही जीवन में अनुशासन को भी सिखाता है और यह पूरी उम्र सभी के काम आता है। इस दौरान उन्होंने स्कूल के समय के कई यादगार पलों को भी साझा किए। तो वहीं कैडेट्स द्वारा दी गई प्रस्तुति की उन्होंने प्रशंसा की।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम के दौरान सांसद जर्नादन मिश्रा ने स्कूल के विजेताओं को पुरस्कार देकर उनका उत्साह बढ़ाया। वहीं इस दौरान एसपी ललित शाक्यवार, स्कूल के प्राचार्य सहित स्कूल स्टाफ और कैडेट्स मौजूद रहे। उन्होंने छात्रों की प्रस्तुति को लेकर न सिर्फ उत्साह बढ़ाया बल्कि पुरस्कृत हो रहे छात्रों को ताली बजाकर मनोबल ऊंचा किया।

फोटो- 21- रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति देते कैडेट।

22- पेटिंग की कैडेट्स से जानकारी लेते वाइस एडमिरल।