- पीड़िता का पिता विदिशा जेल में बंद

सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

सिविल लाइन थाना क्षेत्र में हुए गैंगरेप के तीन आरोपित युवकों को पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया है। दो युवकों को रहली थाना क्षेत्र के पटना बुजुर्ग गांव और एक को पथरिया जाट गांव से भागते हुए गिरफ्तार किया गया। चौथा आरोपित युवक कल्लू अहिरवार फरार है।

गिरफ्तार आरोपित युवकों के नाम हल्ले पिता नाथूराम अहिरवार, पंकज पिता प्रीमत सूर्यवंशी और बैलू उर्फ सुरेंद पिता लीलाधर सूर्यवंशी हैं। ये सभी पथरिया जाट गांव के रहने वाले हैं। घटना 12 मार्च की देरशाम की है। पुलिस को सूचना मिली थी कि पथरिया जाट रोड पर तीन युवक एक नाबालिग लड़की को पकड़े हुए हैं। उसे अज्ञात स्थान पर ले जाने का प्रयास कर रहे हैं। सूचना मिलते ही सिविल लाइन थाने के एसआई वीपी वर्मा, महिला एसआई और स्टाफ को लेकर मौके पर पहुंचे। पीड़िता ने पूछताछ करने पर बताया कि चारों युवकों ने मुझे बंधक बनाने का प्रयास किया और बारी-बारी से दुष्कर्म किया। पुलिस के पहुंचते ही आरोपित युवक अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। पीड़िता को थाने लाकर आरोपित युवकों के खिलाफ गैंगरेप व पास्को एक्ट का केस दर्ज किया गया। घटना के 24 घंटे के अंदर पुलिस ने तीन आरोपित युवकों को गिरफ्तार कर बुधवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

जेल में है पीड़िता का पिता

सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता का पिता आपराधिक मामले में विदिशा जिला जेल में बंद है। पीड़िता भाई-भाभी के साथ खुरई रोड पर स्थित डेरा में रहती थी। 12 मार्च को वह भाई-भाभी के साथ कटरा बाजार में खरीदी करने आई थी। भाभी से किसी बात को लेकर विवाद होने से वह देवरी क्षेत्र के गांव में अपनी बहिन के पास जाने ऑटो रिक्शा में बैठी। चालक उसे गलत रास्ते से लेकर राजघाट रोड ले गया। वहां उसने लड़की को उतार दिया था। इसके बाद वह पैदल चलकर फोरलेन सड़क की ओर जा रही थी। रास्ते में बाइक सवार युवकों ने अंधेरे का फायदा उठाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

-----------------